You are currently viewing FATEHPUR- सड़कों की धज्जियां उड़ा निकल गए खनन माफिया, राहगीर परेशान

सड़कों की धज्जियां उड़ा निकल गए खनन माफिया, राहगीर परेशान

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर (ब्यूरो)– जनपद में खनन माफियाओं ने सड़कों की इस तरह दुर्दशा बिगाड़ कर रफूचक्कर हो गए हैं कि आज लोगों को इन रास्तों से निकलना मुश्किल हो रहा है और अब लोग अपने आप कोस रहे हैं कि आखिर समय रहते अगर खनन माफियाओं को हावी होने से रोका जाता तो शायद सड़कों की दुर्दशा इतनी बदतर नहीं होती ।
जानकारी के मुताबिक किशनपुर थाना क्षेत्र में संचालित हो रहे मझगवां वा गढीवा मोरम खदान के संचालकों द्वारा इस तरह से रोड पर ओवरलोड वाहन दौडाए गए कि रोड के चिथड़े उड़ गए और अब राहगीरों को उस रोड से निकलना दूभर हो रहा है ज्ञात हो कि किशनपुर थाना क्षेत्र में पहले तो मझगवां खदान के संचालक द्वारा रोड के चिथड़े उड़ाए गए इसके बाद बची कुची रोड की हालत गढ़ीवा खदान संचालक द्वारा धड़ाम कर दी गई और 30 जून रात 12:00 बजे से खनन बंद कर खदान संचालक व खदान कर्मचारी रफूचक्कर हो गए लेकिन सड़कों की बिगड़ी दुर्दशा से ग्रामीणों के हाल बेहाल हैं और राहगीरों को निकलना इस सड़क से लोहे के चने चबाने के बराबर हो गया ज्ञात हो कि दिसंबर से शुरू हुए इन खदान संचालकों के मनमानी के आगे प्रशासन नतमस्तक नजर आया हालांकि बीच में प्रशासन ने सख्ती दिखाइए खनन माफियाओं पर शिकंजा कसते हुए कई बार कार्यवाही की बावजूद इसके भी लोग प्रशासन को ठेंगा दिखाते रहे और धड़ल्ले से ओवरलोड वाहन सड़कों पर दौड़ आते रहे यही कारण है कि किशनपुर से गुरुवल मार्ग पूरी तरीके से धड़ाम हो गया है और अब हल्की बारिश होने के बाद ही लोगों को सड़क से निकलना दूभर हो गया है और लोग राहगीरों के वाहन फिसल कर गिर जाते हैं और आए दिन लोग इस रास्ते पर गिरकर चोटिल होते हैं लेकिन खदान संचालकों में इस रोड की मरम्मत कराने के बारे में नहीं सोचा और काम निकालते ही रफूचक्कर हो गए हालांकि कई बार क्षेत्रीय लोगों ने रोड को सही कराने के लिए खदान संचालकों के प्रति जाम लगाकर आक्रोश जाहिर किया लेकिन खदान संचालकों द्वारा क्षेत्रीय लोगों को सिर्फ आश्वासन हाथ लगा और बार-बार खदान संचालक यही कहते रहे की रोड की मरम्मत करा दी जाएगी लेकिन रोड जैसी की तैसी पड़ी रही और काम निकलने के बाद यह रफूचक्कर हो गए ।
वही बिगड़ी हुई रोड को लेकर क्षेत्रीय लोगों में भारी आक्रोश है और अब वह अपने आप को कोस रहें है ।