FATEHPUR- अनुराग सिंह की मौत के मामले में पीएम रिपोर्ट में हुआ खुलासा सिर की हड्डी थी टूटी

ब्रेकिंग न्यूज
असोथर फतेहपुर
फालो अप
अनुराग सिंह की मौत का मामला
पीएम रिपोर्ट में खुलासा सिर की हड्डी टूटी

असोथर थाने के रामनगर कौंहन गांव अनुराग सिंह उम्र बयालीस वर्ष की मौत का रहस्य पोस्टमार्टम रिपोर्ट में और गहरा गया है जिसे पुलिस सामान्य मौत बता रही थी वह मौत सामान्य नहीं है।।सुत्रों के अनुसार मंगलवार को म्रतक अनुराग सिंह का पोस्टमार्टम हुआ । जिसमें उसके सिर में चोंट के निशान मिले हैं वहीं पीएम रिपोर्ट में लगभग एक सप्ताह पहले हत्या की रिपोर्ट आई है ।। अब ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि सिर मे चोंट कैसे लगी व वह यमुना किनारे कैसे पहुंचा मौके पर असोथर पुलिस ने फोरेंसिक जांच की टीम को नहीं बुलाई थी जिससे मौत का साक्ष्य मिलने में आसानी होती।।आपको बताते चलें कि थाना क्षेत्र के रामनगर कौहन निवासी प्रदीप सिंह ने थाने में तहरीर देते हुये बताया कि उनका भतीजा अनुराग सिंह आठ मार्च को उनके साथ ट्यूबवेल में था इसके बाद वह रात नौ बजे घर चला गया था लेकिन वह सुबह तक घर नहीं पहुंचा तभी ग्रामीणों से पता चला कि अनुराग मोरम खनन के पास दिखा था यहाँ पर उससे किसी से नोंक झोंक भी हुई थी फिर एक सप्ताह ग्रामीणों के जरिये पता चला कि रमसोलेपुर के पास किसी का क्षत विक्षत शव यमुना नदी के किनारे पड़ा है जब परिजनो ने वहां जाकर देखा तो वह शव अनुराग का था घर वालों ने कपड़ा व आगे निकले दांतो से पहचान की थी फिर तुरंत परिजनों ने इस घटना की जानकारी असोथर थाने में दी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को बाहर निकलवाया और पोस्टमार्टम के लिये पीएम हाउस भेजवाया।।वही परिजनो द्वारा दी गई तहरीर में बताया कि अनुराग एक दो दिनों में आ जाता था इसीलिये उसके न आने पर कोई जांच पड़तालनहीं की गई।।लेकिन उसके दोस्तों व रिस्तेदारी में काफी खोजबीन की गई लेकिन कहीं कोई जानकारी न होने पर थाने जा रहे थे तभी अनुराग के बारे में ऐसी जानकारी मिली।।
आखिर क्यों नहीं बुलाई गई फोरेंसिक टीम
वहीं जानवरों व जल के जीवों द्वारा नोची गई लाश जांच पड़ताल के लिये इलाकाई पुलिस नें शुरू में ही फोरेंसिक जांच टीम को बुलाना मुनासिब नहीं समझा अब यह बात समझ के बाहर है कि पुलिस ने फोरेंसिक टीम को क्यों बुलाना मुनासिब नहीं समझा ??

सात दिन पुराना है शव

सुत्रों के मुताबिक पोस्टमार्टम से मालूम हुआ है कि अनुराग की मौत सात दिन पहले हुई थी
जबकि पुलिस को दी गई तहरीर में सात दिन पहले मोरम घाट पर किसी नोकझोंक की बात कही गई है ऐसे में अनुराग
की मौत सामान्य नहीं लग रही अब देखने वाली बात कि पुलिस किस तरह से मामले का खुलासा करती है।।
संवाददाता महेश कुमार
UFT NEWS असोथर फतेहपुर✍️✍️✍️