You are currently viewing FATEHPUR- एसडीएम की संयुक्त टीम ने पकड़ा मिलावटी तेल का खेल

एसडीएम की संयुक्त टीम ने पकड़ा मिलावटी तेल का खेल

यूपी फाइट टाइम्स

ठा. अनीष सिंह


*फतेेहपुुर ब्यूरो*- शुक्रवार की रात्रि जिला प्रशासन को नकली सरसों तेल की सूचना मिली।जिसपर एसडीम सदर प्रमोद झा ने तहसीलदार विकाश पाण्डे, सीओ जाफरगंज डी. सी.मिश्रा,सप्लाई स्पेक्टर आशा रामपाल,थाना प्रभारी योगेन्द्र कुमार सिंह के साथ बहुआ कस्बे के एक घर से छापा मारकर 41 गैलेन लगभग 1200 लीटर पामआयल पकड़ा। जबकि दुकनदार को संयुक्त टीम व पुलिस की आने कि भनक पहले से लग चुकी इस लिए वह मौके से पहले हि फरार हो गया। टीम ने मिलावटी तेल को कब्जे में लेकर खाद्य सेम्पलिंग बिभाग को बुलाकर सैम्पल कलेक्ट कर सील कर दिया।
शुक्रवार की रात्रि मुखबिर की सटीक सूचना पर एसडीम के नेतृत्व में आई संयुक्त टीम ने बहुआ कस्बे के दीपक गुप्ता पुत्र स्व.केदार नाथ गुप्ता के घर से की 41 गैलेन मिलावटी तेल बरामद कर लिया। सूचना दुकानदार को हो जाने के कारण वह करवाई के पहले ही मौके से निकल गया था।पकड़े गए तेल की बजारू कीमत लगभग 20 लाख आंकी गयी। प्राप्त जानकारी के अनुसार मिलावटी तेल कानपुर से आता है,इसमें कुछ केमिकल मिलाकर सरसों के तेल के ख़ूबहू शक्ल में परिवर्तित कर स्थानीय बाजारों में बिक्री के लिए तैयार कर दिया जाता है। इसके लिए राइसब्रान ऑयल व पाम आयल का मिलावटी सरसों का तेल बनाने में उपयोग किया जाता है। मिलावटखोर इन तेलों में रंग, खुशबू और मिर्च का अर्क, सिंथेटिक एलाइल आइसोथायोसाइनेट, प्याज का रस व फैटी एसिड की मिलावट करते है। इसको लोग देखकर असली और नकली का भेद नहीं कर पाते हैं।
डाक्टरों के अनुसार केमिकलयुक्त तेल से लीवर संबंधी रोग की आशंका रहती है। वहीं मिलावटी तेल में मिले हानिकारक तत्व एल्डीहाइट, पालीमर्स आदि बेहद नुकसान देह हैं। पालीमर्स ऐसा तत्व है जो तले जाने के बाद कार्बोहाइड्रेट के साथ मिलकर कैंसर की कोशिकाएं तक विकसित कर सकता है। जबकि फैटी एसिड हृदय की धमनियों में जमता है इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।