You are currently viewing FATEHPUR- दोबारा मतदान की अफवाह से मतदाता परेशान

दोबारा मतदान की अफवाह से मतदाता परेशान

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर(ब्यूरो)– फतेहपुर जनपद के विजयीपुर विकासखंड के करीब आधा दर्जन ग्राम पंचायतों पर दोबारा मतदान कराने की अफवाह से मतदाता परेशान है जिसको लेकर मतदाता इधर-उधर जानकार लोगों से पुनः मतदान होने की हकीकत पता कर रहे है कि क्या सच में दोबारा मतदान होगा ।
जानकारी के मुताबिक फतेहपुर जनपद में पिछले 26 अप्रैल को तृतीय पंचायत चुनाव के तहत मतदान संपन्न हुआ था 2 मई को मतगणना की गई जिसके बाद ग्राम प्रधानों का चयन हुआ लेकिन कुछ ग्राम पंचायतों के हारे हुए प्रत्याशियों ने मतगणना के लिए दूसरे दिन से ही आरोप लगाने शुरू कर दिए कि मतगणना पर मतगणना कर रहे कर्मचारियों व अधिकारियों ने पैसे लेकर मत पेटियां बदल दी जिसमे हारे हुए प्रत्याशी को जीता दिया गया जबकि जीते हुए प्रत्याशी को हरा दिया गया जिसको लेकर कई जगहों पर कई ग्राम पंचायतों से लोगों ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देते हुए पुनः मतदान कराने की मांग की है वही बता दें कि इसी क्रम में विजयीपुर विकासखंड की करीब आधा दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों पर हारे हुए प्रत्याशियों द्वारा जिला अधिकारी को शिकायती पत्र देकर मत पेटियां बदलने का आरोप लगाते हुए पुनः चुनाव कराने की मांग की है और गांव में उनके समर्थकों द्वारा यह अफवाह फैलाई जा रही है कि ग्राम पंचायत में दोबारा से मतदान होगा जिसको लेकर मतदाता परेशान हैं और मतदाता जानकार लोगों से पुनः मतदान होने की हकीकत पता कर रहे कि क्या हकीकत में पुनः मतदान होगा लेकिन वही आपको बता दे कि अभी यह सिर्फ एक अफवाह है और अभी तक सरकार द्वारा कोई भी ग्राम पंचायत पर कोई भी ऐसा निर्णय नहीं लिया गया है कि पुनः मतदान कराया जाए सिर्फ अभी तक पड़ताल मे यह एक अफवाह है और किसके बहकावे में ना आए ।
वही खंड विकास अधिकारी गोपीनाथ पाठक ने बताया कि प्रमाण पत्र मिलने के बाद आज तक कहीं भी चुनाव रद्द नहीं हुए फिर भी मामला निर्वाचन आयोग का होता है निर्वाचन आयोग का निर्णय ही मान्य होगा ।
वही मामले को लेकर खागा उप जिलाधिकारी पहलाद सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ऐसा कोई मामला संज्ञान में नहीं है और रही बात चुनाव पुनः होने की तो पुनः चुनाव कराना संभव नहीं है फिर भी लोगों को अधिकार है अगर कोई भी व्यक्ति पिटीशन दायर करना चाहता है तो वह दायर कर सकता है और जो न्यायालय का आदेश होगा उसके तहत आगे का कार्य किया जाएगा ।