You are currently viewing FATEHPUR- महिला हेल्प डेस्क बना मजाक, खाली पड़ी महिला हेल्प डेस्क की कुर्सी

महिला हेल्प डेस्क बना मजाक, खाली पड़ी महिला हेल्प डेस्क की कुर्सी

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर(ब्यूरो)– पिछले साल मिशन शक्ति अभियान के तहत हर थानों में महिला हेल्प डेस्क खोल दिए गए। इसके पीछे का मकसद यह कि थानों तक पहुंचने वाली महिला फरियादियों को अपनी पीड़ा बताने में असहजता महसूस न हो और महिला पुलिसकर्मी के समक्ष अपनी बात बता सकें। लेकिन बीतते वक्त व लावरवाही के वजह से महिला हेल्प डेस्क ही हेल्प लेस होती जा रही है। मंगलवार दोपहर करीब 4बजे इसी की जमीनी हकीकत जानने का प्रयास किया तो हेल्प डेस्क खाली पड़ी थी खाली काउंटर में कलम व रजिस्टर रख्खी थी। गौरतलब है कि महिला फरियादियों को थाने पहुंच कर अपनी बात बताने में जरा भी संकोच न हो इसी को ध्यान में रखते हुए सूबे की योगी सरकार ने पिछले साल प्रदेश के लगभग सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क खुलवाई गई थी। इसके तहत फतेहपुर जिले के सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क खोली जा चुकी है। जनपद के किशनपुर थाने में खोली गई हेल्प डेस्क इन दिनों स्वयं ही हेल्प के लिए परेशान है। इसी तरह का हाल कुछ अन्य थानों का भी है। हालांकि कुछ थानों में महिला हेल्प डेस्क बेहतर स्थिति में है क्योंकि वहां पर सर्किल अफसर लगातार इस की मानिटरिग करते रहते हैं। सूत्रों की माने तो किशनपुर थाने में तैनात महिला पुलिसकर्मी ड्यूटी के समय हाथ में मोबाइल लिए कान में इयरफोन लगाएं ड्यूटी के समय लापरवाही करती रहती है उसका परिणाम महिला फरियादियों को भुगतना पड़ता है उन्हें अपनी समस्या पुरुष सिपाहियों से ही बतानी पड़ती है! हालांकि इस बाबत जब हमने मोबाइल फोन द्वारा नवागंतुक पुलिस कप्तान फतेहपुर श्री राजेश कुमार से बात करना चाहा तो उनसे संपर्क नहीं हो पाया…