FATEHPUR- आर्थिक तंगी या लाचारी से मजबूर कूड़े में किस्मत ढूंढते नौनिहाल

आर्थिक तंगी या लाचारी से मजबूर कूड़े में किस्मत ढूंढते नौनिहाल

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह।

फतेहपुर– जहां केंद्र में बैठी मोदी सरकार व उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ सब पढ़े सब बढ़े का नारा देकर नौनिहालों को जहां बेहतर सुविधा दिलाने की बात करते है वहीं सरकार के सारे दावे हवा-हवाई नजर आते हैं और जहा नौनिहालों के हाथों में कॉपी किताब होने चाहिए वहां नौनिहाल अपनी किस्मत को कूड़े करकट में ढूंढते नजर आते हैं ।
जानकारी के मुताबिक बता दे कि खागा तहसील क्षेत्र के अंतर्गत एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो सरकार के दावों की पोल खोलती है और इस तस्वीर से अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकार नौनिहालों के उज्जवल भविष्य की कामना किस स्तर से करती है जहां नौनिहालों की जिंदगी कूडे़ करकट के ढेर से चलती है और नौनिहाल अपनी किस्मत कूड़े और करकट में ढूंढते नजर आते हैं
यह वायरल तस्वीर खागा तहसील क्षेत्र की ही है जहां एक छोटा सा बच्चा अपनी किस्मत कूड़े और करकट में खोजने में लगा है और राजनेताओं की इस नौनिहाल पर नजर नहीं पड़ती और यह नौनिहाल अपनी जिंदगी को संवारने के लिए कूड़े और करकट का सहारा ले रहे है आपको बता दें कि यह यह बच्चों का शौक नहीं है जो अपने शौक के लिए ऐसा करते हो यह इन बच्चों की आर्थिक तंगी लाचारी व मजबूर परिस्थितियों जो पेट चलाने के लिए इधर उधर भटक रहे हैं कहीं-कहीं तो छोटे-छोटे बच्चो के हाथ में कटोरा भी देखने को मिलते हैं और कटोरा लेकर भीख मांग कर यह लोग अपना पेट भरते हैं पर किसी राजनेताओं को इन पर तरस नहीं आती और ना ही कोई नेता इनकी मजबूरी का कारण पूछते हैं कई जगह छोटे-छोटे मासूम बच्चे गांव की गलियों में घूम घूम कर फेरी करते हैं जिससे उन्हें दो पैसे मिल जाएं और उनकी जिंदगी सुधर जाए यह छोटे-छोटे बच्चे कूड़े और करकट विनकर जो दो पैसे कमाते हैं उसी से इनका पेट भरता है पर किसी जिम्मेदारों को इस नौनिहालो के ऊपर तरस नहीं आती अब सोचने वाली बात यह है क्या सरकार के वादे सिर्फ चुनावी जुमले होते हैं या कुछ वादे पूरे भी किए जाते हैं खैर वायरल हो रही फोटो से तो यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकार के वादे सिर्फ हवा हवाई होते हैं और सरकार गरीबों को सिर्फ बड़े-बड़े जुमले सुनाती है और हकीकत कुछ और ही होती है ।