जारी है गौवंशो की तश्करी, कौन है वह मास्टरमाइंड—-?

ब्यूरो चीफ आर पी यादव

कौशांबी। गौवंश के संरक्षण और सुरक्षा के लिए सरकार भले ही सजग हो लेकिन जिले में गौवंशो की तश्करी बदस्तूर जारी है। ये गौ तश्करी किसके इशारे से हो रही है? इसका मास्टर माइंड कौन है? पुलिस के हाथ उस व्यक्ति तक क्यों नही पहुंच पाते है? जैसे कई सवालो के जवाब है जिन्हें लोग जानना चाहते है। लोगो ने बताया कि जिले में शासन द्वारा बनाये गए गौशाला से खुलेआम बेखौफ गौवंश वध के लिए लादने का प्रयास किया जा रहा है। ताजा मामला सराय अकिल थाना अंतर्गत ग्राम सभा रसूलपुर टप्पा में बने गौशाला का है। जानकारी के अनुसार सराय अकिल थाना क्षेत्र के पटेल चौराहा से पुरखास जाने वाली सड़क किनारे बिरनेर औऱ सरैया पुल के बीच सड़क किनारे गौशाला बनाया गया है।जहाँ पहले से 83 गौवंश टैगिंग किये हुए मौजूद है। बीती रात गौशाला में एक ट्रक नंबर up 72 7191 गौवंश लादने के मकसद से वहां पहुँची। गीली मिट्टी होने के कारण ट्रक वहा फंस गई। ट्रक को फांसता हुआ देख चालक व अन्य लोग ट्रक छोड़कर मौके से फरार हो गए। जिसकी जानकारी सराय अकिल पुलिस को हुई। सराय अकिल थाना से उपनिरिक्षक आलोक कुमार मैं फोर्स मौके पर पहुचे और ट्रक को कब्जे में लेकर थाने ले आये। ट्रक में पहले से 14 गौवंश पहले से लादे हुए थे। जो कि बिना टैगिंग के थे। जिन्हें गौशाला के सपुर्द कर दिया गया है। सोचने वाली बात है कि आखिर बेखौफ घूम घूम कर छुट्टा जानवर तथा गौशाला से खुलेआम गौवंश लादकर बाहर भेजने वाला मास्टरमाइंड कौन है।जिसने कौशाम्बी पुलिस को खुली चुनौती दे रखी है। घूम-घूम कर जानवर लाद रहा है। अगर ट्रक न फंसता तो क्या पुलिस यह ट्रक पकड़ पाती। गांव-गांव घूमकर गौवंश का लदान करना पुलिस की कार्यप्रणाली लिये सवाल खड़ा करता है।