संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के अन्तर्गत एक लाख रुपये नगद तथा प्रशस्त्रि-पत्र दिये जाते है-जिलाधिकारी

दिनांक 08 सितम्बर, 2020

बलरामपुर। प्रमुख सचिव, उ0प्र0 शासन के अनुपालन में जिलाधिकारी बलरामपुर कृष्णा करुणेश ने समस्त उप जिलाधिकारी जनपद बलरामपुर को निर्देशित किया है कि गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के संबन्ध में मार्गदर्शी अर्हताएं निर्धारित की गयी है। राष्ट्रीय एकीकरण के निमित्त निर्धारित प्रारूप पर प्रस्ताव तैयार कर एक सप्ताह के अन्दर कार्यालय जिला समाज कल्याण अधिकारी, बलरामपुर को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने बताया कि मार्गदर्शी के अनुसार पुरस्कार प्राप्त करने की अर्हताएं निर्धारित की गयी है- व्यक्ति भारत का मूल निवासी हो। उत्तर प्रदेश राज्य की सीमा के भीतर पुरस्कार पर विचार किये जाने के वर्ष में सामान्यतया निवास करता रहा हो। मानवाधिकार, सामाजिक न्याय व राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान रहा हो। गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार योजना के अधीन पूर्व में इस राज्य सरकार द्वारा पुरस्कृत न किया गया हो। प्रदेश में निवासरत कोई एक व्यक्ति जिसने मानवाधिकारों की रक्षा, सामाजिक न्याय राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में सर्वोत्कृष्ट कार्य किया हो तथा इस हेतु पूर्णतयः कार्यरत रहे हो, को सार्वजनिक रूप से सम्मानित करने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा गुरू गोविन्द सिंह जी के जन्म दिवस (05 जनवरी) पर गुरू गोविन्द राष्ट्रीय एकता पुरस्कार प्रदान किया जाता है, जिसके अन्तर्गत एक लाख रुपये नगद तथा प्रशस्त्रि-पत्र दिये जाते है।