कुदरत माफी का वक्त कब तक देगी?-बाबा उमाकान्त जी महाराज

-09.03.2021,प्रयागराज, उत्तरप्रदेश*कुदरत माफी का वक्त कब तक देगी?-बाबा उमाकान्त जी महाराज* उज्जैन से पधारे वर्तमान के पूरे सन्त सतगुरु बाबा उमाकान्त जी महाराज ने बताया कि यह जो 2021का साल है, 2020 से खराब जाएगा। चाहे बीमारी हो, चाहे आंधी तूफान हो, चाहे लूट-खसोट हो, चाहे धोखाधड़ी हो, चाहे आंधी आवे, चाहे बाढ़-सूखा पड़े, चाहे ओला पत्थर गिरे। जो भी 2020 में घटनाएं हुई उनसे ज्यादा घटनाएं होंगी। उनसे ज्यादा तकलीफ लोगों के लिए आएंगी।पशुओं के लिए भी, पक्षियों के लिए भी बीमारियां तरह-तरह की होंगी। महाराज जी ने बताया कि क्योंकि प्रकृति के नियम के खिलाफ लोग काम करते रहे हैं, डर नही रहे हैं भय नहीं हैं।*काल का डंका बजने ही वाला है शंकर जी का तांडव शुरू होने ही वाला है*महाराज जी ने बताया कि माफी का समय कब तक रहेगा? सजा तो देगा इसलिए नीयत सही रखना, शाकाहारी रहना, नशामुक्त रहना, भजन करते रहना, जय गुरु देव नाम की ध्वनि बोलते रहना और लोगों को बुलवाते रहना।*मनुष्य ही है जो परोपकार कर सकता हैं*देखो मनुष्य ही एक ऐसा प्राणी है जो परोपकार कर सकता है। परोपकार किसको कहते हैं? दूसरे की मदद करना बहुत बड़ा पुण्य का काम होता है। जान किसी की जा रही हो और झूठ बोल दो तो माफ हो जाता है लेकिन झूठ बोल कर के मारकाट करके किसी की जान को निकाल दो तो क्षम्य नहीं होता। *इस वक्त पर प्राण बचे बड़े भाग्य वाला काम है* *बज रहा कल का डंका, कोई बचने ना पाएगा।* *बचेगा साधु जन कोई, जो सत से लौ लगाएगा ।*महाराज जी ने कहा कि प्रेमियों। लोगों को समझा दो, बता दो कि भाई भगवान के नियम के खिलाफ काम मत करो। ईश्वरवादी, खुदापरास्त, जिसको कहते हैं वह बन जाओ। अपने-अपने तौर तरीके से ही सही लेकिन भगवान को जरूर याद करो, पूजा-पाठ जरूर करो, बच्चों को भी याद कराओ।*मानव मंदिर को मुर्दा मांस डालकर के गंदा न करें। नहीं मानोगे तो सजा के लिए तैयार हो जाओ*महाराज जी ने कहा कि मानव मंदिर को साफ रखो। इसके अंदर मुर्दा, मांस, शराब जैसे बुद्धि नाशक नशे का सेवन मत करो कि जिससे मां बहन बेटी की पहचान आंखों से खत्म हो जाती है। ऐसे नशे का सेवन मत करो जिससे बुद्धि पागल हो जाए। इस बात को लोगों को बता दो। बता करके उनके अंदर सुधार ला सकते हो, परिवर्तन ला सकते हो। और पुराने लोग, आप नये को नामदान समझाओ और ध्यान भजन कराओ। अपने साथ बैठा कर के जो लोग इच्छुक हो, नामदान दिला दो, समझा दो उनको। सुमिरन, ध्यान, भजन अपने साथ बैठकर के कराओ। यह है परोपकार। परोपकार भी इस शरीर से कुछ करो।*दिन सफेद चूहा और रात काला चूहा आपकी उम्र को धीर-धीरे काट रहे*महाराज जी ने बताया कि मिट्टी का खिलौना मिट्टी में मिल जाएगा। दिन-रात यह चूहे की तरह से जो आ रहे हैं, उम्र को काट करके खत्म कर दे रहे हैं। एक काला चूहा और एक सफेद चूहा। काला चूहा कौन है? रात को कहते हैं। और सफेद चूहा? दिन को कहते हैं। दिन आता है तो उम्र घटती है। और रात आती है तो उम्र घटती है। आप को समझने की जरूरत है।*प्रेमियों !धरती पर खून नहीं बहना चाहिए, चाहे किसी का भी हो इस बात का ध्यान रहे*महाराज जी ने कहा कि प्रेमियों! देखो ऐसा काम नहीं करना चाहिए कि इस धरती पर किसी का भी हो चाहे मनुष्य का, चाहे जानवर का हो, खून बहना नहीं चाहिए। यह बात सब आप लोगों को ध्यान रखने की आवश्यकता है।।।जयगुरुदेव।।परम सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज।।आश्रम उज्जैन।।मध्यप्रदेश भारत।।