You are currently viewing राजनीति से नही हटा अपराधीकरण और व्यापारीकरण तो जनता ऐसे राजनीतिज्ञों को हटा देगी- परम् सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज

जयगुरुदेव
प्रेस नोट
2।11।2020
बाबा जयगुरुदेव धर्म विकास संस्था उज्जैन (मप्र)
राजनीति से नही हटा अपराधीकरण और व्यापारीकरण तो जनता ऐसे राजनीतिज्ञों को हटा देगी- परम् सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज(उज्जैन)

विश्व और मानव कल्याण का लक्ष्य रखने वाले उज्जैन के पूज्य संत बाबा उमाकान्त जी महाराज ने भारत समेत दुनियां के सभी देशों के राजनेताओं से वैश्विक अपील और प्रार्थना करते हुए कहा कि विश्व के जितने भी राजनीतिज्ञ अगर राजनीति से अपराध और अपराधियों को नही हटाएंगे, व्यापारीकरण को नही हटाएंगे, तो एक दिन जनता ही हाथ जोड़ लेगी और जनता ही इनको हटा देगी। जनता इनसे प्रार्थना करेगी कि आप लोग सन्यास ले लीजिए अब हमको आपकी जरूरत नहीं है इसलिए विश्व के जितने भी नेता हैं सब लोगों से मेरी एक गुजारिश है कि आप लोग अपराधी प्रवत्ति छोड़ दीजिए अपराधियों को शह देना छोड़ दीजिए ।
महाराज जी ने राजनीतिज्ञों से आह्वान किया कि आप सब अपराधियों को,भ्रष्टाचारियों को पार्टी में ना रखें।

शाकाहारी,सदाचारी और नशमुक्तों से ही भारत से ही भारत की तरक्की

महाराज जी ने सतसंग में राजनेताओं से प्रार्थना करते हुए कहा कि आप पार्टी में अच्छे लोगों का रखें।अच्छे लोगों की कमी नहीं है अच्छे लोग जहां रहेंगे हर जगह अच्छा काम करेंगे।शाकाहारी सदाचारी नशा मुक्त लोग रहेंगे चरित्रवान लोग रहेंगे तो अच्छा काम करेंगे
अपराधी प्रवत्ति के लोग विकास के मार्ग में स्पीड ब्रेकर

महाराज जी ने बताया जो अपराधी प्रवृत्ति के हैं ।
जिनका खानपान, चाल-चलन हैं।
वे किसी भी व्यक्ति की, पार्टी की प्रतिष्ठान की तरक्की में ब्रेकर बन जाएंगे जैसे रोड पर ब्रेकर हो जाता है तो गाड़ी को रोकना पड़ता है। ऐसे ही ब्रेकर बन जाएंगे तो तरक्की नहीं हो सकती ।
इससे भारत देश के लोगों से ना तो बरकत मिल सकती है और ना देश की ना समाज की ना तरक्की हो सकती है और ना ही जनता के भलाई हो सकती हैं इसलिए हम आदेश तो नहीं दे सकते लेकिन निवेदन कर सकते हैं आपसे कि आप सभी लोग अपराध से अपराधियों से दूर हो जाइए शाकाहारी बन जाइए,चरित्रवान बन जाइए ।
ये तीन गुण आपके अंदर आ गए तो आप राजनीति करिए,
व्यापार करिए ,खेती करिए या कोई भी रिसर्च करिए उस पर हमारे गुरु महाराज जी की दया आपके साथ है और आप तरक्की कर जाओगे करके देख लो।

जयगुरुदेव