कौशाम्बी कोतवाली क्षेत्र के रसूलपुर बड़गांव में बुधवार रात अपने सौतेले बेटे की लाठी डंडे से पीट कर हत्या कर दी

रसूलपुर बड़गांव में सौतेले पिता ने की बेटे की हत्या

रसूलपुर बड़गांव निवासिनी सुशीला देवी की शादी स्थानीय कोतवाली क्षेत्र के मखदुमपुर ढोकसहा गांव में 27 वर्ष पहले सम्मारे लाल के साथ हुई थी । शादी के बाद सुशीला देवी के पहले पति सम्मारे लाल से 2 पुत्र पैदा हुए । पहला पुत्र लवकुश 25
व दूसरा पुत्र विजय 22 लगभग 12 वर्ष पहले सम्मारे लाल की बीमारी के कारण मौत हो गई। पति के मौत के बाद सुशीला देवी ने दूसरी शादी 10 वर्ष पहले सराय अकिल कोतवाली के बेरूई गांव निवासी राजू उर्फ बोड्डा के साथ कर लिया था। शादी के कुछ दिनों के बाद ही सुशीला देवी अपने पति राजू व बेटे विजय को लेकर अपने मायके रसूलपुर बड़गांव में आकर गांव के बाहर एक बगीचे में घर बनाकर रहने लगी। जबकि सुशीला का बड़ा बेटा लवकुश अपने पिता के गांव मखदुमपुर ढोकसहा में अपने परिवार के साथ रह रहा है।
विजय की शादी लगभग 4 वर्ष पहले पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के पूरब शरीरा गांव में रविता के साथ हुई थी।सुशीला देवी के साथ उसका पति राजू बेटा विजय और बहू रविता एक साथ रह रहे थे। सुशीला देवी के अनुसार उसका पति नशे का आदी था। और सुवर पालन का काम करता था ।आए दिन किसी न किसी बात को लेकर परिवार में झगड़ा करता रहता था।कल बुधवार की रात 10 बजे सुवर बंटवारे को लेकर कुछ कहासुनी होने लगी। जिससे गुस्साए राजू ने विजय के ऊपर लाठी से हमला कर दिया और मारने पीटने लगा जिससे विजय की मौके पर ही मौत हो गई।
आरोपी राजू ने घरवालों को झांसे में लिया की विजय बेहोश हो गया है अभी ठीक हो जाएगा।परिजन रात भर होश आने का इंतजार करते रहे।भोर होने पर पता चला कि विजय की मौत हो गई है। सुबह भोर में ही आरोपी राजू फरार हो गया।सूचना पर पहुंची कौशांबी पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज दिया है।सीओ सदर सच्चिदानंद पाठक का कहना है कि मृतक विजय की पत्नी रविता की तरफ से नामजद तहरीर मिली है। आरोपी राजू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। टीम बनाकर संभावित जगहों पर दबिश दी जा रही है आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।