You are currently viewing FATEHPUR- किशनपुर में कवियों ने पूरी रात बांध रखी समा, घायल ने लोगो को दहलाया

किशनपुर में कवियों ने पूरी रात बांध रखी समा, घायल ने लोगो को दहलाया

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह।

किशनपुर/फतेहपुर– किशनपुर कस्बे में चल रही राम लीला में अबकी बार 87वॉ विराट कवि सम्मेलन का आयोजन कालिंदी के तट पर हुआ ।
कोविड-19 के तहत तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए रामलीला अध्यक्ष राजेंद्र मिश्रा ने पूरे मैदान को सेनेटाइज करा कार्यक्रम को रूपरेखा के अनुसार संपन्न कराया।
किशनपुर कस्बे में आयोजित 87 वे कवि सम्मेलन में क्षेत्रीय विधायक कृष्णा पासवान मुख्य अतिथि रही खागा नगर पंचायत अध्यक्ष विशिष्ट अतिथि गीता सिंह रही जिनका स्वागत रामलीला अध्यक्ष ने अंग वस्त्र व पुष्प गुच्छ दे कर किया। इसके बाद सभी मंचासीन कवियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया गया दीप प्रज्वलन के साथ सबसे पहले कुमारी साक्षी तिवारी ने सरस्वती वंदना कर कार्यक्रम की शुरुआत की वही कार्यक्रम का संचालन कर रहे नीरज पांडे ने इसके बाद समीर शुक्ला ने फाल्गुन गिरी बाबा के ऊपर रचित गीत पढ़ पूरी तरह से समा बांध दिया इसके बाद क्रमशः संदीप सर आरती प्रदीप महाजन दुष्यंत सिंह ने अपने हाथ साफ श्रोताओं को बैठने पर मजबूर कर दिया तभी किशनपुर रामलीला की अनूठी कला घायल मैदान पर पहुंचा जिसको देखने वालों ने बाबा की महिमा का बखान करते नहीं थक रहे थे वही दूर दराज से आए रचनाकार भी किशनपूर की अनूठी की कला को देख दांतो तले उंगली दबा लिया।
हास्य कवि के सम्राट अखिलेश द्विवेदी ने काव्य पाठ कर श्रोताओं को हँसने पर मजबूर कर दिया।
क्षेत्रीय श्रोताओं के अलावा संभ्रांत नागरिक की उपस्थिति गरिमामई रही जिसमे किशनपुर की अनूठी कला घायल के दो अद्भुत कलाकारी की नजीर पेश करते हुए घायल का अवलोकन हुआ व कवि सम्मेलन में दूरदराज से आए मशहूर रचनाकार व कवित्रीयों द्वारा काव्य पाठ हुआ जिस पर पूरा सदन वीर रस, श्रृंगार रस ,हास्य रस, में सराबोर रहा।
एक ओर जहां साक्षी तिवारी ने सरस्वती वंदना से और उत्कर्ष उत्तम ने रामगीत से मंच की शुरुआत की समीर शुक्ला ने फाल्गुन गिरी की वंदना कर आगे का कारवां बढ़ाया संदीप शरारती द्वारा हास्य व्यंग व साक्षी तिवारी ने राम वंदना प्रस्तुत कर पूरे सदन को तालियां बजवाने में मजबूर कर कराया श्रोताओं को प्रदीप महाजन, स्वयं श्रीवास्तव, अखिलेश द्विवेदी, सहित कवियों ने पूरे सदन ठहाको से बांध दिया।