You are currently viewing FATEHPUR- किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के नाम पर लिखवा ली अनपढ़ गरीब की जमीन

किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के नाम पर लिखवा ली अनपढ़ गरीब की जमीन

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर (ब्यूरो)– जनपद म न तो ठप्पेबाजो की कमी है और ना ही बेईमानों की ऐसे में कोई भी व्यक्ति मेहनत करके कमाना खाना नहीं चाहता सब यही चाहते हैं कि घर में बैठे-बैठे गाड़ी मिल जाए अच्छा खासा बंगला बन जाए और सो डेढ़ सौ बीघे जमीन हो जाए पर इसके लिए कोई मेहनत करना नहीं चाहता आमतौर पर आप लोगों ने सुना होगा कि लोगों के साथ ठप्पेबाजी होती रहती है लेकिन आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं वह सुनकर आपको भी होशियार हो जाने की जरूरत है और अगर आपके बच्चे स्कूल नहीं जाते तो उन्हें स्कूल भेजने की सख्त जरूरत है क्योंकि परिवार में अगर कोई पढ़ा लिखा नहीं है तो समस्याएं सामने आती ही रहेंगी जी हां हम आपको बता दें कि ऐसा ही एक मामला फतेहपुर जनपद के सामने आया है जहां फतेहपुर जनपद के खागा तहसील क्षेत्र के किशनपुर थाना क्षेत्र से सामने आया है जहां एक अनपढ़ गरीब की जमीन किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के नाम पर अपने नाम करवा ली गई तो बता दें कि पूरा मामला यह है कि रायपुर भसरौल ग्राम पंचायत में एक मजरा पड़ता है रघुवर डेरा जहां एक गरीब परिवार के साथ केसीसी बनवाने के नाम पर एक दबंग व्यक्ति ने उसकी जमीन अपने नाम करा ली जिसके बाद गरीब परिवार न्याय के लिए उप जिलाधिकारी की चौखट पर पहुंचा है रघुवर डेरा गांव के रहने वाले छोटा निषाद ने बताया कि बहियापुर गांव के रहने वाले जय मिश्रा की जमीन को आधी बटाई को लेकर मजदूरी का कार्य करता हू जय मिश्रा से मेरे अच्छे संबंध थे मुझे नहीं पता था कि जय मिश्रा मेरे साथ इतना बड़ा खेल खेल रहा है मेरी महज दो से ढाई बीघा जमीन है जिस पर जय मिश्रा की नजर उस पर लग गई और उसने मुझे किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के नाम पर लेकर खागा कचहरी पहुंच गया जहां उसने मेरे अनपढ़ होने का फायदा उठा लिया और मेरी डेढ़ बीघा जमीन अपने नाम करवा ली इसके बाद जब मुझे पता चला कि अभी जमीन का दाखिल खारिज होना बाकी बचा है तब जाकर मैंने उप जिलाधिकारी के समक्ष आकर न्याय की गुहार लगाई है अब देखना यह है कि क्या पीड़ित परिवार को न्याय मिलता है और ऐसे फर्जी कार्य करने वाले लोगों पर कानूनी कार्रवाई होती है या फिर मामले से पल्ला झाड़ लिया जाता है ।