दो पक्ष में मारपीट में घायल व्यक्ति की इलाज के दौरान हुई मौत

दो पक्ष में मारपीट में घायल व्यक्ति की इलाज के दौरान हुई मौत

आरोपियों तीन को पुलिस ने भेजा जेल।

कुशीनगर (धनंजय पांडेय) जनपद के अहिरौली बाजार थाना अंतर्गत ग्राम जोलहपुर में बीते 22 मार्च को दो पक्षों में हुई मारपीट में घायल युवक का इलाज के दौरान लखनऊ में मौत हो गया। मिली जानकारी के अनुसार बीते 22 मार्च 2021को अजय लाल मौर्य पुत्र कुंज बिहारी मौर्य उम्र 28 वर्ष अपने दरवाजे पर भूसा वाली मशीन को साफ सफाई कर रहा था जिसको लेकर पूर्व में भी विवाद भी हो चुका था उसी समय शेषमणि सिंह दीप मणि सिंह पुत्र गण वासुदेव सिंह निवासी जोलहपुर, प्रमोद सिंह पुत्र केदार सिंह निवासी ग्राम महुअवा थाना अहिरौली बाजार अजय लाल के पास पहुंचे और मशीन को लेकर बहस करने लगे। बहस बाद में मारपीट की घटना में तब्दील हो गई और दोनों पक्षों में मार पीट होने लगा जिसमें अजय लाल को सिर में गंभीर चोट लगी और वही वह घायल अवस्था में गिर पड़ा बाद में सूचना पर थानाध्यक्ष संजय सिंह मौके पर पहुंचे और लगभग 3 घंटे तक गांव में रहे और घटना के दिन ही शेषमणि पुत्र बासुदेव को गिरफ्तार कर थाने लाए तथा घायल अजय लाल के भाई राजन कुमार को इन्हें इलाज हेतु अस्पताल ले जाने को कहा। मृतक का भाई राजन अपने भाई अजय लाल को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में सबसे पहले इलाज हेतु गया फिर संतुष्ट न होने पर राजबंशी न्यूरो केयर नर्सिंग होम गोरखपुर में ले गया परंतु डाक्टरों द्वारा वहां से रेफर कर दिया गया।वह राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान लखनऊ ले गया वहां भी संतुष्टि ना होने पर लखनऊ में ही वियोजन हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर गोमती नगर में भर्ती कराया। अजय लाल का इलाज वियोजन न्यूरो हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर में डॉ मनु रस्तोगी के द्वारा किया जा रहा था परंतु सिर में गंभीर चोट अधिक होने के कारण अजय लाल की बीते 24 मार्च की देर रात मौत हो गई। मौत की सूचना मृतक के भाई राजन ने स्थानीय थाने व अपने परिजनों को दिया। शव लेकर मृतक का भाई एवम परिजन आज दिन गुरुवार को प्रातः स्थानीय थाने में पहुंचे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।इसके बाद मृतक अजय लाल के भाई राजन कुमार ने शेषमणि सिंह दीपमणि सिंह और प्रमोद सिंह के विरुद्ध नामजद तहरीर दिया हत्या का मुकदमा दर्ज करने का अनुरोध किया। इस घटना के पीछे पुरानी रंजिश बताया जाता है क्योंकि मृतक के पिता कुंज बिहारी मौर्य जिनकी 25 नवंबर 2020 को हत्या हो गई थी जिसमें मृतक कुंज बिहारी मौर्य के पुत्र राजन ने शेषमणि सिंह दीपमणि सिंह के भाई रामनिवास सिंह को नामजद किया था और पुलिस ने रामनिवास सिंह को हत्या के आरोप में जेल भेज दिया जो अभी भी जेल में बंद है। उस समय भी भूसा वाली मशीन को लेकर ही वाद विवाद हुआ था और घटना में मृतक के पिता की हत्या हो गई थी और अभी हत्या के 5 महीने ही बीते हैं तब तक कुंज बिहारी मौर्य के परिवार में यह दूसरी मौत हो गई और उनका बेटा अजय लाल काल के मुंह में समा गया। मृतक के 1 पुत्र अभ्यस्त जिसकी उम्र 1 वर्ष और दूसरी पुत्री अमृता जिसकी उम्र 3 वर्ष है तथा उसकी पत्नी गुड़िया देवी का रो रो कर बुरा हाल है। इस सम्बन्ध में थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने कहा कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद धाराओं में परिवर्तन किया जा सकता है और फिलहाल नामजद अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा। वही क्षेत्राधिकारी कसया पीयूष कांत राय ने बताया कि मारपीट में नामजद अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है और उनके खिलाफ कार्यवाही करते हुए जेल भेज दिया।इस घटना की छानबीन की जाएगी अन्य जो भी दोषी होंगे उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।