जय गुरु देव” नाम लोगों की जान बचाने और सुख शांति देने का मूलमंत्र-बाबा उमाकान्त जी महाराज

प्रेस नोट:सोमनाथ, गुजरात*”जय गुरु देव” नाम लोगों की जान बचाने और सुख शांति देने का मूलमंत्र-बाबा उमाकान्त जी महाराज*जनकल्याण और आत्म कल्याण का रास्ता बताने वाले उज्जैन के पूज्य सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज जी ने 28 जनवरी 2021 को पूर्णिमा के अवसर पर भगवान सोमनाथ की भूमि से देश-विदेश के भक्तों से आह्वान किया कि इस जय गुरु देव नाम का प्रचार करो। जन-जन तक इस नाम को पहुँचा दो। इस वक्त पर ये जय गुरु देव नाम प्राण बचाने और सुख शांति देने का मूलमंत्र है। ये नाम उस प्रभु का है जो मुसीबत में मददगार है।*जय गुरु देव नाम का प्रचार व्यापक रूप से होना चाहिए, जन-जन की ज़ुबान पर जय गुरु देव नाम आ जाये*विश्व विख्यात परम सन्त बाबा जय गुरु देव जी महाराज जी के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी पूज्य सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज जी ने बताया की प्रेमियों जय गुरु देव नाम का प्रचार जोर-शोर से होना चाहिए, व्यापक प्रचार इसका होना चाहिए। जन -जन की ज़ुबान पर जय गुरु देव नाम आ जाए। इस वक्त का जो मूल मंत्र है लोगों की जान बचाने का, लोगों को सुख-शांति दिलाने का, इसको लोग जान लें, रख लें और इस मंत्र को जपने लग जाए, इसलिए व्यापक प्रचार होना चाहिए।*यकीन करो जय गुरु देव नाम खुदा, गोड, भगवान का ही है* आप सभी लोग योजना बना लो, महाराज जी ने कहा – जय गुरु देव – यह प्रभु का नाम है, भगवान का नाम है। बराबर आप सब लोग जय गुरु देव नाम की ध्वनि बोलते रहना, अपने घर वालों को बुलवाते रहना, परिवार वालों को भी बुलवाते रहना, रिश्तेदारों को भी बुलवाते रहना ,पड़ोसियों को भी बुलवाते रहना। उससे देखोगे की आपको भी शांति मिलेगी, रोग में कमी आएगी, लड़ाई-झगड़े में कमी आएगी, रुपया-पैसा में बरकत दिखाई पड़ेगा। अन्य लोगों को भी अनुभव होगा। जिसकी जैसी भाव भक्ति होगी, जिसका जैसा मेहनत होगा, उसको वैसा फल गुरु महाराज जरूर देंगे।*जय गुरु देव, नाम ध्वनि बोलते रहने से आने वाले खराब समय मे रक्षा होगी*इसलिए जय गुरु देव नाम की ध्वनि आप सभी लोग बोलना सीख लो। मैं बोलता हूं, आप लोग दोहराना तो आप लोग सीख जाओगे। इसी तरह से आप लोगों को भी बुलवाना। *जयगुरुदेव,जयगुरुदेव, जयगुरुदेव, जय, जयगुरुदेव*इसी तरह से जय गुरु देव नाम की ध्वनि बोलना है और लोगों को बुलवाना है।जय गुरु देवपरम् सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराजजय गुरु देव सतसंग- 28.01.2021,सुबह 7:30,बजे सोमनाथ, गुजरात ( भारत )