कोटेदार द्वारा की जा रही घटतौली की खबर चलाने पर पत्रकार को मिली फर्जी मुकदमें में फंसाने की धमकी

आपूर्ति निरीक्षक के सामने ही दबंग कोटेदार ने पत्रकार को देख लेने की दी घमकी।

महाराजपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम खुजउपुर में दबंग कोटेदार द्वारा लगातार गरीब राशन कार्ड धारकों का राशन कम कर बांटा जा रहा था व जबरन उनके राशन में कटौती की जा रही थी जिसकी खबर को एक पत्रकार ने बखूबी घटतौली उजागर करते हुए खबर चलाई थी जिस को संज्ञान में लेते हुए खाद्य आपूर्ति निरीक्षक आलोक सिंह जांच करने खुजउपुर गांव पहुंचे थे इस बात की जानकारी खुद आपूर्ति निरीक्षक ने मीडिया कर्मियों को दी तथा खुजउपुर गांव कोटेदार के यहां बुलाया।
जांच करने आए अधिकारी की खबर को कवर करने गए पत्रकार से दबंग कोटेदार ने आपूर्ति निरीक्षक के सामने ही अपशब्दों का प्रयोग करते हुए देख लेने की धमकी दी तथा फर्जी मुकदमों में फंसाने की भी धमकी दी।
यह सब तमाशा खाद्य आपूर्ति निरीक्षक आलोक सिंह के सामने चलता रहा जिसमें कोटेदार द्वारा पत्रकार को बार-बार जातिसूचक सांप्रदायिकता फैलाते हुए कई अपशब्दों का प्रयोग किया गया।
जांच करने गए खाद्य आपूर्ति निरीक्षक ने कहा कि यहां पर कोई शिकायतकर्ता मौजूद नहीं है तथा मीडिया कर्मियों से कहा कि पहले जाओ शिकायतकर्ता को लेकर आओ इसके बाद ही कुछ हम सोचेंगे
इस बात को लेकर जब आपूर्ति निरीक्षक से बात की गई कि पीड़ितों द्वारा दी गई बाइट व घट तौली के वीडियो साक्ष्य के रूप में मौजूद हैं इसके बावजूद भी आपूर्ति निरीक्षक ने कोई जवाब नहीं दिया।
दबंग कोटेदार लगातार आपूर्ति निरीक्षक के सामने पत्रकार को अपशब्दों का प्रयोग करता रहा तथा कुछ भी कर लेने की धमकी दी इसके बावजूद आपूर्ति निरीक्षक द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई।
इसके साथ ही आपूर्ति निरीक्षक आलोक सिंह ने कहा कि मैंने करबिगवा गांव के कोटेदार की कोटा निरस्त के लिए लिखकर अपनी रिपोर्ट लगाकर उपजिलाधिकारी को फाइल सौंपी थी लेकिन उसमें आप लोग क्या कर पाए जवाब दें।
इससे यही अंदाजा लगाया जा सकता है कि कहीं ना कहीं बड़ी गड़बड़ी ऊपर से ही होती है अब देखना यह है कि सारे साक्ष्य मौजूद होने के बाद भी आपूर्ति निरीक्षक अपनी रिपोर्ट में क्या बताते हैं।