You are currently viewing कर्मभूमि के साथ प्रवासी बंधुओं ने सेवाकार्यों के माध्यम से जन्मभूमि का भी हमेशा रखा ध्यान : केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी

गुजरात प्रवास का दूसरा दिन

कर्मभूमि के साथ प्रवासी बंधुओं ने सेवाकार्यों के माध्यम से जन्मभूमि का भी हमेशा रखा ध्यान : केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी

बाड़मेर भाजपा नेताओं के प्रतिनिधिमंडल के साथ केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी गुजरात में प्रवासी मारवाड़ी और राजस्थानी समाज से कर रहे हैं संवाद, प्रवासी सम्मेलनों में उमड़ा जनसैलाब, जगह जगह स्वागत

आंणद/वडोदरा/बाड़मेर-जैसलमेर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री तथा बाड़मेर जैसलमेर सांसद कैलाश चौधरी चार दिवसीय गुजरात एवं महाराष्ट्र राज्य में प्रवासी सम्मेलन एवं स्नेह मिलन कार्यक्रमों में भाग ले रहे हैं। इसी कड़ी में शनिवार को कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने गुजरात के आंणद एवं वडोदरा क्षेत्रों के विभिन्न स्थानों पर आयोजित सरकारी, सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यक्रमों में भाग लिया। कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने सबसे पहले आंणद कृषि विश्वविद्यालय का निरीक्षण करके फल, सब्जियों एवं औषधीय पादपों की विभिन्न प्रकार की किस्मों और उन्नत तकनीक का अवलोकन किया। इस दौरान कृषि वैज्ञानिकों, विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों एवं विद्यार्थियों से कृषि व किसान कल्याण से जुड़े विषयों पर संवाद किया।

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने इसके बाद औषधि एवं संगधीय पादप अनुसंधान निदेशालय, आंणद के निरीक्षण के दौरान संस्थान में स्थित हर्बल उद्यान तथा तरूवाटिका का दौरा किया। इस दौरान औषधीय एवं सगंधीय पौधों के लिए बेहतर कृषि एवं संकलन क्रियाओं की उन्नत तकनीक देखी। कैलाश चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए हर्बल खेती के साथ ही फलों, सब्जियों और फूलों की खेती को बढ़ावा दे रही है। इससे किसानों की आमदनी तो बढ़ेगी ही साथ ही ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी। इस दौरान संस्थान के वीसी डॉ. के.बी. कथीरिया, एडीजी आईसीएआर विक्रमादित्य पांडेय, डॉ सत्यजीत रॉय सहित संस्थान के कृषि वैज्ञानिक एवं अधिकारीगण उपस्थित रहे।

‘जहां न पहुंचे बैलगाड़ी, वहां भी पहुंचे मारवाड़ी’ : इसके बाद कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने गुजरात प्रवास की श्रंखला में शुभम पार्टी फ्लोर चिकोदरा, आंणद में आयोजित मारवाड़ी-राजस्थानी प्रवासी सम्मेलन एवं स्नेह मिलन समारोह में भाग लिया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि ‘जहां न पहुंचे बैलगाड़ी, वहां भी पहुंचे मारवाड़ी’ यह कथन सर्वथा सत्य है। क्योंकि मारवाड़ी समाज के लोगों ने महानगरों के साथ-साथ देश के गुजरात सहित अन्य प्रांतों के सुदूर गांवों में भी व्यवसाय व उद्योग स्थापित कर इसे चरितार्थ करने के साथ ही स्थानीय लोगों के जीवन स्तर को सुधारने में सहयोग भी किया है। कार्यक्रम में आंणद के सांसद मितेशभाई पटेल, आंणद जिला प्रधान संजय भाई पटेल, श्रीमती ज्योति बहन शुक्ला जी, बृजेश राजपुरोहित, ऑल इंडिया बंजारा समाज के उपाध्यक्ष दीपक सिंह राठौड़, रामदेव युवक मंडल अध्यक्ष अर्जुन राजपूत, समाजसेवी धनाराम सुथार, कैलाश शाह एवं पप्पू सुथार सहित कई स्थानीय एवं प्रवासी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

आणंद में स्थापित अमूल डेयरी का किया अवलोकन : कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने भारत में सर्वप्रथम श्वेत क्रान्ति की नींव रखने वाले डॉ. वर्गीज कुरियन द्वारा आणंद (गुजरात) में स्थापित अमूल डेयरी का अवलोकन किया। इस दौरान कैलाश चौधरी ने अमूल संस्थान के विशाल परिसर में विभिन्न उच्च तकनीक की मशीनों और अमूल के प्रमुख उत्पादों के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। अमूल के प्लानिंग-मार्केटिंग मैनेजर जयेन मेहता, सेल्स मार्केटिंग मैनेजर मनोरंजन पानी और पब्लिक रिलेशन मैनेजर दीपक शर्मा ने दुग्ध सहकारी आंदोलन के रूप में अमूल की स्थापना से लेकर
उसके गुजरात के घर घर में स्थापित एक ब्राण्ड बनने तक के प्रेरणादायी सफर के बारे में विस्तार से बताया।

साथ में रहा बाड़मेर भाजपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल : गुजरात के विभिन्न शहरों में आयोजित केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी के स्वागत-सम्मान कार्यक्रमों में गुजरात के स्थानीय भाजपा पदाधिकारियों व जनप्रतिनिधियों, प्रवासी व सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ बाड़मेर के प्रतिनिधिमंडल की ओर से इस स्वागत-सम्मान समारोह में बाड़मेर के प्रतिनिधिमंडल की ओर से शामिल पूर्व मंत्री अमराराम चौधरी, सिवाना विधायक हमीर सिंह भायल, पूर्व विधायक शिव जालम सिंह रावलोत, भाजपा प्रदेश मंत्री के के विश्नोई, भाजपा जिला महामंत्री बालाराम मूंढ और स्वरूप सिंह खारा, समाजसेवी डॉ. मेघाराम गढवीर, गोविंद सिंह कालूड़ी, सोहन सिंह भायल, भाजपा ओबीसी मोर्चा बालोतरा के अध्यक्ष इंदाराम चौधरी, जिला परिषद सदस्य हंसाराम प्रजापत, सरपंच जुगताराम भादु और समाजसेवी तेजाराम जाजड़ा सहित बाड़मेर के जनप्रतिनिधि एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।