You are currently viewing किशोरी को शादी का झांसा देकर प्रेमी ने धर्मांतरण करा दूसरे को बेचा,तीन गिरफ्तार

किशोरी को शादी का झांसा देकर प्रेमी ने धर्मांतरण करा दूसरे को बेचा,तीन गिरफ्तार

रिपोर्ट – बंशीलाल

-एक वर्ष पहले प्रेमी ने किशोरी को किया था गायब
कौशाम्ंबी। कोखराज थाना क्षेत्र के एक गांव में एक वर्ष पहले प्रेमी ने हिन्दू किशोरी को झांसा देकर उसका अपहरण कर लिया। इसके बाद धर्मांतरण कराकर निकाह करा लिया। पीड़ित के परिजनों ने मामले की शिकायत पुलिस में दर्ज कराया। पुलिस ने अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को बरामद कर तीन लोगो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
पुलिस अधीक्षक राधेश्याम विश्वकर्मा ने दुर्गा भाभी सभागार में प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि एक वर्ष पहले कोखराज थाना क्षेत्र के रसूलपुर काजी गांव में अस्सान नामक युवक पड़ोसी हिन्दू किशोरी को प्रेम जाल में फंसा कर किशोरी का धर्मान्तरण कराकर निकाह कर लिया। आरोप है कि शादी के एक दिन पहले घर से किशोरी को बहला फुसलाकर भगा ले गया। कुछ दिन अपने मामा के यहां मूरतगंज मे कैद रखने के बाद धर्मांतरण कराकर उसे दूसरे के हाथ बेच दिया। पीडित किशोरी के भाई ने अपहरण करने की एक वर्ष पहले पुलिस को शिकायत दिया। कोखराज पुलिस नेें मामला दर्ज कर लिया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि किशोरी के बरामदगी और आरोपी गणों की गिरफ्तारी के लिए एसओजी प्रभारी संजय गुप्ता सिपाही राजेंद्र प्रसाद यादव सुरेंद्र सिंह प्रमोद विश्वकर्मा मनोज यादव विजय कुमार सिंह सरताज अहमद मनीष कुमार धर्मेंद्र कुमार और कोखराज थाना अध्यक्ष ज्ञान सिंह उपनिरीक्षक भोलानाथ यादव सोनू यादव के साथ किशोरी को बरामद कर प्रेमी अस्सान रजा ऊर्फ हसन पुत्र मो0 साले व भाई मुस्तफा पुत्र साले निवासी गण रसूलपुर काजी और मामा अतिल पुत्र मसीह अहमद निवासी मूरतगंज को हिरासत में लिया गया। हिरासत के दौरान तीनों लोगों से पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ किया तो कैद में रखी गई किशोरी को अपने घर से बरामद करा दिया। पुलिस ने बरामदगी के बाद किशोरी का बयान दर्ज कर तीनों अभियुक्तों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्मांतरण परिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम २०२१ के अंतर्गत जेल भेज दिया। एसपी ने कहा कि धर्मांतरण का मामला गंभीर है। इसलिए बहुत गम्भीरता के साथ विवेचना की जा रही है। इस मामले में अन्य लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है। उन्हें भी दोष सिद्ध होने पर गिरफ्तार किया जाएगा।