You are currently viewing FATEHPUR- रामलाल की मौत से कौशिल्या और चम्पा को सताने लगी अपने जीवन की चिंता

रामलाल की मौत से कौशिल्या और चम्पा को सताने लगी अपने जीवन की चिंता

यमुना नदी में आई बाढ़ से फसल भी हुई थी चौपट

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर (ब्यूरो)– विजयीपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत महावतपुर असहट के मजरे पिपरहा डेरा मे एक गरीब की मौत हो जाने के बाद से उसकी पत्नी व बेटियों के सामने बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है और अब उन्हें अपनी जिंदगी की चिंता सताने लगी है ।
जानकारी के मुताबिक विजयीपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत महावतपुर असहट के मजरे पिपरहा डेरा गांव मे रहने वाले रामलाल की मौत अभी कुछ दिन पूर्व हुई थी जिसके बाद उसके मौत के बाद से उसकी पत्नी और बेटियों का रो रो कर बुरा हाल है कच्चा मकान भी गिरने के कगार में है बरसात की महीने में बैठने की जगह तक नहीं है रामलाल की पत्नी ने बताया कि अभी पिछले दिनों हुई बारिश में पूरी रात बैठकर गुजारनी पड़ती थी ज्ञात हो कि सरकार द्वारा गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिए जाने की बात की जाती है पर इस परिवार के पास सर छिपाने तक की जगह नहीं है ऐसे कई परिवार इस ग्राम पंचायत पर हैं कि आज तक प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिल सका है रामलाल की पत्नी धनमनियां ने बताया कि अभी पिछले 7 तारीख को ही उसके पति रामलाल की मौत हो गई है घर में दो कौशल्या और चंपा बड़ी-बड़ी बेटियां हैं दो लड़के है जो परदेस में रहकर मजदूरी करते हैं ऐसे में रामलाल की पत्नी धनमनिया को उसकी बेटियों कि शादी की चिंता सताने लगी है दोनों बेटियां शादी के योग्य है बड़ी बेटी की उम्र 18 वर्ष दूसरी बेटी चंपा की उम्र 16 वर्ष है पिता की मौत के बाद से यह दोनों बेटियां अपनी जिंदगी के बारे में सोच समझ कर रो रही हैं वही रामलाल की पत्नी ने बताया कि कुल मिलाकर ढाई बीघा जमीन हमारे पास है वह भी पिछले दिनों यमुना नदी में आई बाढ़ से जल मग्न हो गई थी जिसमें से एक दाना भी पैदा नहीं हुआ सरकार द्वारा सिर्फ मुआवजा के नाम पर आश्वासन दिया गया और तब से आज तक कोई भी ना तो जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचा है और ना ही कोई राजस्व कर्मचारी और मुआवजे के नाम पर सिर्फ आश्वासन ही मिला है ।
वही रामलाल की पत्नी ने बताया कि कई बार ग्राम प्रधान से आवास के लिए कहा गया लेकिन ग्राम प्रधान द्वारा यह कह कर टाल दिया जाता है कि आपका नाम पात्रता सूची में नहीं है जिसकी वजह से आप इस लाभ को लेने में वंचित है ।