You are currently viewing कोरोना में जयगुरुदेव नाम बोलकर बहुतों ने फायदा उठाया, आगे भी ये नाम मददगार है

जयगुरुदेव
प्रेस नोट
19.09.2021
सूरत गुजरात

कोरोना में जयगुरुदेव नाम बोलकर बहुतों ने फायदा उठाया, आगे भी ये नाम मददगार है

आगे खराब समय में जयगुरुदेव नाम रामबाण की तरह सिद्ध होगा

इस समय पर कुदरती कहर से जीवों की रक्षा के लिए दिन-रात अथक परिश्रम करने वाले तथा उससे बचने के उपाय भी बताने वाले समय के पूरे संत सतगुरु बाबा उमाकांत जी महाराज ने 18 सितंबर 2021 सूरत गुजरात में यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेम (jaigurudevukm) पर प्रसारित सत्संग में बताया कि देखो प्रेमियों! यह जयगुरुदेव नाम और यह जयगुरुदेव नाम ध्वनि इस समय पर दवा ही नहीं संजीवनी की तरह से काम करेगा। लक्ष्मण को जब शक्ति बाण लगा था तब संजीवनी बूटी को सुंघाया था। उसी तरह से इस समय पर दु:ख के समय में इस जयगुरुदेव नाम ध्वनि को जब से लोग बोलने लगे तब से उनको फायदा होने लग गया।

अभी तक आपने खराब समय नहीं देखा, खराब समय आगे आएगा

अभी तो आपने खराब समय देखा नहीं है। खराब समय आगे आएगा। यह कोरोना रोग, यह जगह-जगह पर डेंगू बुखार, यह बीमारी यह आपको सुनने को मिल रहा है, यह कुछ नहीं है। बहुत पहले बताया गया था की नई-नई बीमारियां आएंगी। जब तक डॉक्टर दवा खोजेगें तब तक बहुत लोगों की जान चली जाएगी। अभी पीछे कोरोना आया था, बहुत लोगों की जान चली गई, जो अनजान थे, नहीं जान पाए। लेकिन जो जयगुरुदेव नाम की ध्वनि बोले और दवा जो बताई गई थी, उसका इस्तेमाल लोगों ने किया। बहुत से लोग ठीक हो गए। आप समझो आगे खराब समय में रामबाण जिसको कहते हो उस तरह से जय गुरु देव नाम सिद्ध होगा।

अपने-अपने स्तर से जितना कर सकते हो, जयगुरुदेव नाम का प्रचार कर दो

जयगुरुदेव नाम से बहुत लोगों ने लाभ उठाया लेकिन कमी तो इस बात की रही कि जयगुरुदेव नाम को आप लोग फैला नहीं पाए नहीं तो और लोगों को फायदा हो जाता। चलो कोई बात नहीं। सुबह का भूला शाम को घर वापस आ जाए तो भूला नहीं कहलाता। आप लोग जितना कर सकते हो, चाहे बच्चे-बच्चियां हो, बुजुर्गों हो अपने-अपने स्तर से प्रचार कर दो, बता दो लोगों को की जयगुरुदेव नाम ध्वनि बोलने की आदत डालें। गोस्वामी जी ने कहा-

कोटि-कोटि मुनि जतन कराही।
अंत नाम मुख आवत नाही।।

यह सत्य है कि प्राण सबका निकलेगा। यह शरीर छूटेगा। यह संसार की चीजें जिनको हम और आप आंखों से देखते हैं एक दिन ओझल हो जाएंगे। कोई भी हो सबका शरीर छूटेगा।

मौत के समय पीड़ा कम करने वाला नाम-जयगुरुदेव

मौत के समय किसी-किसी को बहुत पीड़ा होती है। पशु-पक्षियों के तरह से जो खाते और बच्चा पैदा करके दुनिया संसार से चले जाते हैं। ऐश और आराम की चीज में भगवान भी याद नहीं आता, मौत भी याद नहीं आती है, उनको बहुत तकलीफ होती है, बड़ा कष्ट होता है। मौत के समय पीड़ा होती है। सब तो साधक होते नहीं हैं, सब तो धर्म निष्ठ होते नहीं है कि उनके प्राण आराम से निकल जाए। जो साधना बताया गया, आप जो नए नामदानी हो, आपको पता है। वह जब तरीका मालूम होता था तो फिर आखरी वक्त में तकलीफ नहीं होती है। यमराज के दूत जब मार मारते हैं, बहुत कष्ट होता है, हड्डी-हड्डी चकटती है। उस समय पर कोई मददगार नहीं होता है। उस समय पर भी यह नाम जिसको गोस्वामी जी ने कहा-
नाम रहा संतन आधीना।
संत बिना कोई नाम न चिन्हा।।

जिसको संत मान्यता दे देते हैं उसको बोलने से लाभ मिल जाता है, बचत हो जाती है, तकलीफ से छुटकारा मिल जाता है, आराम से जीवात्मा और प्राण इस शरीर को छोड़कर निकल जाते हैं।

जयगुरुदेव नाम ध्वनि बोलने से बीमारी, लड़ाई-झगड़ा, कमाई में बरकत-फायदा दिखने लगेगा

प्रेमियों! लोगों को बताओ, जिनको नाम दान नहीं मिला, भजन नहीं कर पा रहे हैं तो मौत के समय पीड़ा तो कम हो जाएगी। इस समय पर जो घर-घर में बीमारी, लड़ाई-झगड़ा, वैमनस्यता, ईर्ष्या-द्वेष चल रहा है, रुपया पैसा कमाते हैं दिखाई नहीं पड़ता है, कम से कम कुछ फायदा तो दिखने लगेगा। मैंने जब लोगों को बताया सुबह-शाम एक घंटा पूरे परिवार को बैठाकर के नामध्वनि जब से बोलने लगे, बता रहे हैं बहुत फायदा हो रहा है। बड़ी तकलीफ थी धीरे-धीरे जा रही तो आप लोग इस बात का प्रचार करो।