FATEHPUR- श्रम प्रवर्तन अधिकारियों ने 549 मजदूरो का कैम्प लगाकर किया निशुल्क पंजीयन

श्रम प्रवर्तन अधिकारियों ने 549 मजदूरो का कैम्प लगाकर किया निशुल्क पंजीयन

यूपी फाइट टाइम्स
ओमनरायण विश्वकर्मा ।

खागा (फतेहपुर) उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के हितार्थ संचालित योजनाओं के तत्वधान में ऐरायां ब्लाक परिसर में श्रम प्रवर्तन अधिकारी राजेश श्रीवास्तव के नेतृत्व में कैंप लगाकर लगभग 549 मजदूरों का निःशुल्क फॉर्म भरवाए गए ।तथा योजनाओं के सम्बन्ध में विस्तार पूर्वक चर्चा दिया।
खागा तहसील क्षेत्र के ऐरायां ब्लाक परिसर में श्रमिकों का पंजीयन करते हुए श्रम प्रवर्तन अधिकारी राजेश श्रीवास्तव ने बताया कि दिन रात मेहनत करने वाले मजदूरों जैसे वेल्डिंग कार्य, बढ़ई का कार्य ,कुआं खोदना, रोलर चलाना ,थप्पड़ डालने का कार्य ,राजमिस्त्री का कार्य ,प्लंबरिंग ,लोहार, सड़क निर्माण, मिक्सर चलाने का कार्य ,पुताई, इलेक्ट्रिक वर्क ,हथोड़ा चलाने का कार्य, सुरंग निर्माण, टाइल्स लगाने का कार्य ,बालू, मिट्टी, मोरंग के खनन का कार्य ,ईट भट्टों पर एक निर्माण का कार्य ,रसोई में उपयोग हेतु माड्यूलर इकाइयों की स्थापना ,मकानों भवनों की आंतरिक सज्जा कार्य आदि अनेकों प्रकार के मजदूरी करने वाले श्रमिक निर्माण माना जाता है ।और इन्होंने बताया कि ऐसे सभी निर्माण जो 18 से 60 वर्ष की आयु के हैं ।और जिन्होंने पंजीकरण के समय पिछले 12 माह में 90 दिनांक तक निर्माण श्रमिक के रूप में कार्य किया हो, और निर्माण श्रमिक श्रम विभाग के जिला श्रम कार्यालय व जनसेवा केंद्रों द्वारा पंजीयन फार्म के साथ दो फोटो आधार कार्ड और बैंक पासबुक की छायाप्रति के साथ निर्माण श्रमिक के रूप में गत 12 महीनों में 90 दिनांक तक का कार्य करने का प्रमाण पत्र हो आदि लोग सरकार की विभिन्न प्रकार की योजनाओं का लाभ ले सकते हैं। जिनका निशुल्क पंजीयन किया जा रहा है।
इन्होंने जानकारियां देते हुए बताया कि ऐसे मजदूरों श्रमिकों को सरकारी योजनाओं के माध्यम से लाभ प्रदान किया जा रहा है ।जो मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना के अंतर्गत है ।और पंजीकरण के उपरांत 2 प्रश्नों तक महिला श्रमिक को 3 माह के न्यूनतम मजदूरी के बराबर तथा पुरुष कामगार की पत्नियों को ₹6000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी और 1 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक पुत्री पैदा होने पर ₹20000 तथा पुत्री पैदा होने पर 25000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी तथा 18 वर्ष के लिए एक मुश्त ₹25000 सावधि जमा के रूप में दी जाएगी और इन्होंने मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों की मृत्यु हो जाने पर सामान्य मृत्यु की दशा में दो लाख का दुर्घटना से मृत्यु की दशा में 500000 की आर्थिक मृतक सहायता श्रमिक को प्रदान किया जाएगा। इन्होंने महात्मा गांधी पेंशन योजना के तहत पंजीकृत महिला पुरुष श्रमिकों के 60 वर्ष की उम्र पूर्ण करने एवं 10 वर्ष तक बोर्ड का निरंतर सदस्य रहने की स्थिति में ₹1000 प्रति माह पेंशन प्रदान की जाएगी ।इस तरह से इन्होंने बताया कि संत रविदास शिक्षा सहायता हेतु छात्रवृत्ति योजना , चिकित्सा सहायता योजना , गंभीर बीमारी सहायता योजना , क्षमता पेंशन योजना ,कौशल विकास तकनीकी योजना , आवास सहायता योजना , शौचालय सहायता योजना , निर्माण कामगार पुत्री विवाह योजना , मेधावी छात्र पुरस्कार योजना , अंत्येष्टि सहायता योजना, आदि 13 तरीके से योजनाओं का लाभ पंजीकृत श्रमिकों को सरकार द्वारा मिलने वाला लाभ के सम्बन्ध में जानकारियां दिया है।
‌ इस मौके पर श्रम प्रवर्तन अधिकारी राजेश श्रीवास्तव, अनिल सिंह ,आनंद सिंह सहित अन्य सहयोगी मौजूद रहे।