You are currently viewing सी.आर.सी. लखनऊ एवं केंद्रीय विद्यालय संगठन के संयुक्त तत्वावधान में आरम्भ हुआ तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

सी.आर.सी. लखनऊ एवं केंद्रीय विद्यालय संगठन के संयुक्त तत्वावधान में आरम्भ हुआ तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

समेकित क्षेत्रीय कौशल विकास, पुनर्वास एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण केंद्र, लखनऊ एवं केंद्रीय विद्यालय संगठन, लखनऊ क्षेत्र के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 15 सितम्बर, 2021 से 17 सितम्बर, 2021 तक “दिव्यांगता एवं समावेशी शिक्षा” विषय पर तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आरम्भ किया गया।
प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में रमेश पांडेय, निदेशक, सी.आर.सी, लखनऊ ने समस्त अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत किया और कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में विस्तृत रूप से अपने भाव व्यक्त किये। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित एन.आर. मुरली, जॉइंट कमिश्नर (ट्रेनिंग), केंद्रीय विद्यालय संगठन, नई दिल्ली ने बताया कि हम सभी को एक ऐसे विद्यालयी वातावरण स्थापित करने की आवश्यकता है जिसमे सभी छात्र/छात्राएं बिना बाधा के शिक्षा ग्रहण कर सके। विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित डी.के. द्विवेदी, डिप्टी कमिश्नर, केंद्रीय विद्यालय संगठन, क्षेत्रीय कार्यालय, लखनऊ ने दिव्यांगता एवं समावेशी शिक्षा विषय पर आधारित प्रशिक्षणात्मक कार्यक्रम में बोलते हुए बताया कि वर्तमान शैक्षणिक परिदृश्य में सार्वभौमिक अधिगम स्वरुप की अत्यंत आवश्यकता है एवं आर पी डब्लू डी एक्ट-2016 तथा राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 ने भी इसे प्रमुखता से लिया है।
प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम सत्र में वक्ता के रूप में उपस्थित डॉ० वर्षा गट्ठू, विभागाध्यक्ष, विशेष शिक्षा, अली यावर जंग राष्ट्रीय वॉक एवं श्रवण दिव्यांगजन संस्थान, मुंबई ने दिव्यांगता के वर्गीकरण पर प्रकाश डाला एवं आर पी डब्लू डी एक्ट-2016 के अंतर्गत आने वाली 21 दिव्यांगताओं के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की। प्रशिक्षण कार्यक्रम के दूसरे सत्र में वक्ता के रूप में उपस्थित रवि प्रकाश सिंह, ऑफिसर इंचार्ज एवं व्याख्याता, विशेष शिक्षा, राष्ट्रीय बौद्धिक दिव्यांगजन संस्थान, क्षेत्रीय कार्यालय, नवी मुंबई ने यूनिवर्सल डिज़ाइन ऑफ लर्निंग के प्रत्यय को सभी के समक्ष रखा एवं कक्षा कक्ष में यूनिवर्सल डिज़ाइन ऑफ लर्निंग के उपयोग पर विस्तृत व्याख्या प्रस्तुत की।
प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम दिवस में केंद्रीय विद्यालय संगठन, लखनऊ क्षेत्र के 200 से अधिक प्रधानाध्यापक/प्राचार्य/हेडमास्टर तथा सुपरवाइजर उपस्थित रहे जिन्होंने दोनों सत्र के पश्चात विषय सम्बन्धी जिज्ञासाओं को विशेषज्ञों के समक्ष रखा जिस पर विशेषज्ञों के द्वारा तर्कपूर्ण उत्तर दिए गए। कार्यक्रम के सम्पूर्ण सत्र की सभी प्रतिभागियों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की।