नौतनवा/मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप जैसा बीर, प्रतापी व दृढ़ संकल्पित योद्धा न कभी हुआ और न आगे होने की संभावना ही है -गुड्डू खान

नौतनवा/मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप जैसा बीर, प्रतापी व दृढ़ संकल्पित योद्धा न कभी हुआ और न आगे होने की संभावना ही है -गुड्डू खानमहराजगंज/आकाशअग्रहरिभारतीय इतिहास में राजपुताने (क्षत्रिय) का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है,यहां के रणबांकुरों ने देश,जाति धर्म तथा स्वाधीनता की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने में कभी संकोच नहीं किया और किसी के अधीन नही रहे,भारत के मेवाड़ राज्य के सिसौदिया राजवंश में जन्मे सबसे बीर, त्याग व दृढ़ संकल्पित राजा महाराणा प्रताप सिंह हुए उनके त्याग और बीरता पर संपूर्ण भारत को हमेशा नाज है।आज भी इस वंश के लोगो ने समाज मे अपनी अलग छाप छोड़ रखी है बस उसका स्वरूप बदलकर क्षत्रिय समाज रूपी संगठन हो गया है।आज क्षत्रिय समाज के पदाधिकारियों ने वार्ड नं0 12 सिद्धार्थ नगर में स्थित संगठन कार्यालय पर एक बैठक आहूत की जिसमे कोरोना काल मे किये गए नौतनवा नगर पालिका अध्यक्ष गुड्डू खान के प्रयास को सराहते हुए उन्हें सच्चे जनसेवक होने की उपाधि से नवाजते हुए तलवार तथा महाराणा प्रताप का चित्र भेंट कर सम्मानित किया,तत्तपश्चात पालिका अध्यक्ष ने माँ सरस्वती व अन्य देवो के चित्र पर पुष्प अर्पित कर शुभाशीष प्राप्त किया।कार्यक्रम की अगुआई कर रहे क्षत्रिय समाज के तहसील अध्यक्ष ज्ञानेश सिंह ने पालिका अध्यक्ष को एक ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि “हमारे संगठन के सभी पदाधिकारी चाहते हैं कि “नगर के गौशाला समिति के पास सिसौदिया वंश के सबसे प्रतापी राजा महाराणा प्रताप की एक अदद प्रतिमा लगाई जाय। पालिका अध्यक्ष ने बताया कि “हमे इस बात से गर्वित होना चाहिए कि हमारे पूर्वज इतने प्रतापी व बीर थे जिसमे मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप का नाम सर्वप्रथम लिया जाता हैं उनके बाद ऐसा बीर,प्रतापी व दृढ़ संकल्पित योद्धा न कभी हुआ और न आगे होने की संभावना ही है,और हम आप को भरोशा दि�