FATEHPUR- मंदिरों में बैठे महंत नहीं दे रहे जमीन व दानकोश का हिसाब किताब

मंदिरों में बैठे महंत नहीं दे रहे जमीन व दानकोश का हिसाब किताब

यूपी फाइट टाइम्स
महेश कुमार

असोथर / फतेहपुर– आचार्यकुलम के संस्थापक अध्यक्ष आचार्य विनोद शुक्ला कलेक्ट्रेट स्थित मीडिया जनसंपर्क केन्द्र में मीडिया से रूबरू हुए और कहा जनपद में तमाम मंदिर है जिनमें फतेहपुर शहर के कुछ मंदिरों में जिलाधिकारी अध्यक्ष है बावजूद इसके तमाम लोग अपना उल्लू सीधा करने में जुटे हैं मंदिर के जीर्णोद्धार के नाम पर वसूली करते हैं और उस व्यक्ति का नाम मंदिर के शिलापट्ट पर अंकित करा देते हैं। इसके बाद जिलाधिकारी के अध्यक्ष होने के नाते न तो कभी उस चंदे का हिसाब जिलाधिकारी को दिखाते हैं और न ही कोई इस तरीके की गतिविधियां जिलाधिकारी से शेयर करते हैं। उन्होंने कहा मंदिर के जीर्णोद्धार के नाम पर यह अवैध वसूली बंद होनी चाहिए। साथ ही ऐसे काबिज लोगों के खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए और जो भी मंदिरों में चढ़ावा चढ़ता है जिन मंदिरों में जिलाधिकारी अध्यक्ष है वह दानपात्र जिलाधिकारी के द्वारा नामित व्यक्ति के द्वारा ही उस दानपात्र का ताला खोलना चाहिए और वह पैसा सरकारी राजस्व में जमा होना चाहिए। आचार्यकुलम के संस्थापक अध्यक्ष आचार्य विनोद शुक्ला ने कहा कि मंदिर में कुछ लोग तमाम लोगों के सहयोग से मंदिर बनवाने के बाद उसे अपनी बपौती समझकर उस मंदिर में ताला स्वयं का लगा देते हैं जबकि मंदिर परिसर में मंदिर बनने के बाद वह मंदिर जनता को समर्पित हो जाता है उसमें बनवाने वाले का कोई हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए। लेकिन इसके बावजूद कुछ लोग उस मंदिर में अपना ताला लगाकर उसे अपना मंदिर बताते हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ जिलाधिकारी को कार्यवाही करनी चाहिए। इस पर फतेहपुर शहर के तमाम अन्य समाजसेवियों व संगठन के प्रतिनिधियों को साथ लेकर उन्होंने मुहिम छेड़ी है। जिलाधिकारी को ज्ञापन भी प्रेषित किया है और ऐसे लोगों को मंदिर से बाहर करवाने का काम भी वह करने की मुहिम छेड़ दिया है। पिछले कई वर्षों से काबिज ऐसे लोगों से जिलाधिकारी उनसे रिकवरी भी करवाने का काम करें ताकि जो लोग मंदिर के जीर्णोद्धार के नाम पर लाखों रुपए डकार कर बैठे हैं उनको यह एहसास हो जाए कि जिले का मुखिया कभी भी हिसाब ले सकते हैं।