महराजगंज:कोरोना पॉजिटिव नेपाली मृतक के शव का पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

महराजगंज। आज नेपाल प्रशासन का अमानवीय चेहरा तब नजर आया जब भारतीय प्रशासन द्वारा काफी मशक्कत के बाद भी वह अपने देश के ही नागरिक के मृत शव को लेने से साफ मना कर दिया।

पढ़े पूरा मामला

2 दिन पूर्व दिन बुधवार को मुंबई से चलकर एक युवक सत्येंद्र बिका (32) पुत्र बीर बहादुर निवासी जिला नवल परासी त्रिवेणी नेपाल का रहने वाला अपने साले व कुछ दोस्तों के साथ नेपाल वतन वापसी के लिए सोनौली नेपाल बॉर्डर पर पहुँचा। पर अचानक उसकी तबीयत खराब होने से मौके पर ही मौत हो गई। मृतक के दोस्तों ने बताया कि वह मुंबई से ही बीमारी की हालत में यहां तक आया था। और वह मुंबई में रहकर अपना न्यूरो का इलाज करा रहा था। एसडीएम जसधीर सिंह एवं सीओ राजू कुमार साव द्वारा नेपाल प्रशासन से शव को ले जाने की बात कही गई। लेकिन नेपाल प्रशासन द्वारा शव को लेने से साफ मना कर दिया गया। और भारत मे ही कोरोना टेस्ट कराने की दुहाई देने लगे। जबकि मृतक के परिजन शव को अपने घर नेपाल वापस ले जाने के लिए तैयार थे। एसडीएम व सीओ के आदेश पर सोनौली पुलिस शव को कब्जे में लेकर कोरोना जांच व पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पर आज जब मृतक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई तो नेपाल प्रशासन ने अपने ही देश के नागरिक के साथ सौतेला व्यवहार करते हुए मृतिक के शव को वापस लेने से साफ मना कर दिया। हालांकि एसडीएम व सीओ द्वारा नेपाल प्रशासन से काफी मान मनौवल किया गया। लेकिन नेपाल प्रशासन ने इनकी बातों को दरकिनार कर शव को लेने से साफ मना कर दिया। अब समस्या यह था कि मृतक के शव का अंतिम संस्कार करेगा कौन। मृतक के परिजन भी उसके अंतिम संस्कार से पीछे हट गए। इस दौरान सोनौली पुलिस द्वारा मानवता का परिचय देते हुए आगे आकर मृतक के शव को सम्मान पूर्वक अंतिम संस्कार कराया गया। महराजगंज पुलिस द्वारा किया गया यह सराहनीय कार्य पूरे जनपद में चर्चा का विषय बना हुआ है।

रिपोर्ट-मुराद अली (ब्यूरो चीफ महराजगंज)