महराजगंज:कृषि एवं श्रम कानून का समाजवादियों ने जताया विरोध,राज्यपाल को संबोधित डीएम को ज्ञापन

महराजगंज। समाजवादी पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर किसानों एवं श्रमिकों के हितों पर आघात पहुचाने वाले कृषि एवं श्रम कानूनों के विरोध में जिलाधिकारी उज्ज्वल कुमार के माध्यम से महामहिम राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन दिया गया। किसानों के हितों की अनदेखी करने वाला जो कृषि विधेयक भारत सरकार लाई है उससे किसान अपनी जमीन का मालिक न रहकर मजदूर हो जाएगा। कृषि उत्पादन मंडी की समाप्ति और विधेयक में न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलना सुनिश्चित न होने से किसान अब औने पौने दामो पर अपनी फसल बेचने को मजबूर होगा। गेहूं धान की फसलों को आवश्यक वस्तु अधिनियम से हटाए जाने से किसान को बड़े आढ़तियों एवं व्यापारिक घरानों की शर्तों पर अपनी फसल बेचना मजबूरी होगी। समाजवादी पार्टी किसानों की आवाज दबने नही देगी। संसद से पारित श्रमिक कानून से श्रमिकों के हित बुरी तरह प्रभावित होंगे। अभी तक 100 कर्मचारियों वाले उधोगों को बिना सरकारी अनुमति छटनी का अधिकार नही था, नया कानून 300 कर्मचारियों वाले उधोगों को भी जब चाहे छटनी करने का अधिकार दे रहा है। इससे श्रमिकों में असुरक्षा की भावना बढ़ेगी और वे अपनी जायज मांग भी नही उठा सकेंगे। उधोगपति के वे बंधुआ मजदूर रह जाएंगे। ज्ञापन देने के दौरान जिलाध्यक्ष अमीर हुसैन, पूर्व विधायक नौतनवा मुन्ना सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश यादव, पूर्व विधायक श्रीपत आजाद, विन्द्रेश कन्नौजिया, तासुवर हुसैन, दीपू यादव, रविन्द्र उर्फ राजा, पवन वर्मा, विजय बहादुर चौधरी, अमरजीत यादव , वृजेश गुप्ता के साथ अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

ब्यूरो रिपोर्ट