कोविड-19 महामारी के प्रभावी नियन्त्रण के सम्बन्ध में बैठक एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कन्ट्रोल सेन्टर में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आहूत की गई

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

बलरामपुर। कोविड-19 महामारी के प्रभावी नियन्त्रण के सम्बन्ध में बैठक एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कन्ट्रोल सेन्टर में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आहूत की गई, जिसमें मुख्य चिकित्साधिकारी, बलरामपुर, अपर जिलाधिकरी/नोडल अधिकारी (एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कन्ट्रोल सेन्टर), उप मुख्य चिकित्साधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक उपस्थित रहे। बैठक में कोविड-19 महामारी के प्रभावी नियन्त्रण के सम्बन्ध में गहन समीक्षा की गई।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि निगरानी समिति (1061) द्वारा प्रतिदिन घर-घर सर्वे किया जा रहा है। आज कुल 20350 घर का सर्विलांस किया गया। उक्त क्रम मे मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि सर्वे के कार्य मे आॅगनबाड़ी कार्यकत्र्री एवं आशा का सक्रिय सहयोग लिया जाय।
निगरानी समिति के द्वारा आज 389 व्यक्ति चिन्हित किये गए जिसके सापेक्ष 17 का सैम्पलिंग आज कराया गया है। शेष का कल कराया जायेगा।
सभी संदिग्ध केसों की 24 घण्टे के अन्दर जांच कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया एवं किसी भी प्रकार की शिथिलता हेतु सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारी का उत्तरदायित्व निर्धारित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा अवगत कराया गया कि दिनंाक-22.08.2020 को 48 कोविड धनात्मक लोगो के सम्पर्क में 180 की टैस्टिग आज करायी जा चुकी है। दिनांक 01.07.2020 से 23.08.2020 तक कुल 803 पाॅजिटिव लोगों के कुल 8704 की कान्टैक्ट ट्रेसिंग की गई जिसमे से 7451 लोगों के सैम्पल लिये जा चुके है। इस सम्बन्ध मे बैठक मे उपस्थित मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया गया कि काॅन्टैक्ट मे आए लोगो की टैस्टिग 24 घंण्टे मे सुनिश्चित की जाए।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा अवगत कराया गया कि उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा आवंटित कार्य किया जा रहा है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा अवगत कराया गया कि सभी कोविड पाॅजिटिव केसो को चिन्हित कर 24 घण्टे के अन्दर फैसिलिटी आवंटित करने की कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है तथा हेाम आइसेालेशन वाले मरीजों का आर0आर0टी0 टीम द्वारा विजिट किया जा रहा है।
सभी होम आइसेालेशन वाले मरीजो से दिन मे एक बार कमाण्ड सेण्टर से फोन करके हाल-चाल लिया जा रहा है एवं विकास खण्डवार स्थापित कमाण्ड सेन्टरों से भी हालचाल लिया जा रहा है। किसी भी समस्या के दृष्टिगत तत्काल आवश्यक कार्यवाही की जा रही है।
सभी सर्विलास टीम को सक्रिय किया जाये तथा जनपद के बाहर आने वाले सभी व्यक्तियों की निगरानी की जाये यदि किसी व्यक्ति को लक्षण पाये जाते है तो आर0आर0टी0 टीम को सूचित किया जा रहा है। बैठक मे उपस्थित प्रभारी चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि कुछ स्थानों पर आर0आर0टी0 टीम के पहुंचने पर कतिपय व्यक्तियों द्वारा जांच न कराये जाने के सम्बन्ध मे अनावश्यक रूप से टीम के साथ अभद्रता की जाती है। इस सम्बन्ध मे सभी उपजिलाधिकारियों को इस आशय के निर्देश दिये गये कि वह अपने-अपने तहसील अन्तर्गत क्षेत्राधिकारी पुलिस एवं प्रभारी चिकित्साधिकारी के साथ बैठक कर समस्याओं का निराकरण करायें। उक्त के अतिरिक्त सभी टीमें आवश्यकतानुसार डाॅयल 112 का भी सहयोग प्राप्त करेंगे।

जिलाधिकारी द्वारा बैठक मे उपस्थित मुख्य चिकित्साधिकारी एवं प्रभारी चिकित्साधिकारियों को इस आशय के निर्देश दिये गये कि कोविड मरीजों के इलाज मे किसी भी प्रकार की देरी न की जाये तथा सभी कोविड मृतक की डेथ आॅडिट जल्द से जल्द किया जाना सुनिश्चित करे। मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के अब तक हुये कुल 14 मे से 13 मृत्यु जनपद के बाहर L2/L3 फैसिलिटी मे हुई है।
जांच के समय सभी लोगों का पता तथा मो0न0 सही-सही अंकित किया जाये जिससे पेार्टल पर सूचना सही तथा समय से अपलोड कराया जा सके।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि आई0एम0ए0 तथा नर्सिंग होम एसोसिएशन से लगातार संवाद बनाये रखे एवं आवश्यकता पडने पर ट्रीटमंेट प्रोटोकाल के बारे में बताया जाये।
एम्बुलेंस सेवाओं की सुविधा सभी कोविड तथा नान कोविड मरीजो के लिए सुनिश्चित की जाये।
उक्त के अतिरिक्त बैठक मे उपस्थित मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जवाहर नवोदय विद्यालय मे स्थापित एल-1 हास्पिटल मे सी0सी0टी0वी0 कैमरा लगवाने की आवश्यकता है तथा सैम्पलिंग टीम को एक अदद वाहन की आवश्यकता है। साथ ही कार्यालय मे डाॅटा अपलोड करने हेतु कम्प्यूटर आपरेटर्स की भी आवश्यकता है। इस सम्बन्ध मे मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया गया कि तत्काल नियमानुसार प्रस्ताव अनुमोदन हेतु प्रस्तुत करते हुये आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। उक्त के अतिरिक्त इस आशय के भी निर्देश दिये गये कि कोविड-19 मे लगे समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों को सुरक्षात्मक संसाधन की कमी न आने पाये।