मां ही निकली बेटी के हत्या की दोषी

पुलिस अधीक्षक के कुशल नेतृत्व मे कोखराज प्रभारी निरीक्षक व एसओजी टीम ने पायल मडर मिस्ट्री सुलझाई

पुलिस अधीक्षक कौशाम्‍बी अभिनंदन सिंह के कुशल नेतृत्व झमता ने जनपद की एक ऐसी अनसुलझी बच्ची की हत्या का राज आइएने की तरह साफ खोला गया है |वह अत्यंत सराहनीय है |कुशल मार्ग दर्शन मे प्रभारी निरीक्षक कोखराज राकेश कुमार तिवारी ने घटना के दिन से ही गहन मंथन कर रहे थे |थाना क्षेत्र के इचौली गाव मे पायल पुत्री राम सिह तीन जून को लापता हो गई |जिसका मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना शुरु की गई |दूसरे दिन बच्ची का शव पडोसी के घर की छत पर मिल गया |वादी ने पडोसी के विरूद्व मुकदमा लिखवा दिया |लेकिन प्रभारी निरीक्षक राकेश कुमारी तिवारी घटना के परिदृश्य और वादी के क्रिया कलाप को देखकर संतुष्ट नही थे |उन्होने एस ओ जी टीम प्रभारी के साथ रणनीति तय की और गांव की दो बच्चियों रविता और अनीता के सम्बंध मे जानकारी मिली की इन दोनो से घटना के खुलासा मे मदद मिल सकती है |दोनो लडकियो ने जो बताया वह अत्यंत चौकाने वाला था |मृतका की मां ने कुछ अंडे टूटने के कारण पायल का सिर दीवाल से टकरा दिया था जिससे वह बेहोश हो गई काफी प्रयास के बाद भी पायल को होश नही आया और वह मर गई |लाश को मा रेखा ने छिपाने की कवायत शुरु कर दी |इसने पडोसी दिनेश की छत मे शव छिपा दिया |पुलिस ने पायल की मां को गिरफ्तार कर पूंछतांछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल करते हुए सारी दास्तां बताकर रोने लगी |घटना के सही अनावरण से एक निर्दोष जेल जाने से बच गया और पायल का असली हत्यारा कौन है वह भी सामने आ गया |