You are currently viewing पैगम्बर मोहम्मद की बेहुरमती पर मुस्लिम समाज ने फ्रांस के राष्ट्रपति का पुतला फूंका

पैगम्बर मोहम्मद की बेहुरमती पर मुस्लिम समाज ने फ्रांस के राष्ट्रपति का पुतला फूंका

कोटा। 8 नवंबर पैगम्बर मोहम्मद की बेहुरमती पर मुस्लिम समाज ने रविवार को किशोरपूरा थाने के पास सामजिक कार्यकर्ता मोहम्मद हुसैन की अगुवाई में एकत्रित होकर फ्रांस के खिलाफ सोशल डिस्टेंटिंग की पालना करते हुए विरोध प्रर्दशन कर फ्रांस के राष्ट्रपति एमेनुएल मेक्रोन की सांकेतिक तौर पर जुबान काट कर पुतला दहन किया|

मोहम्मद हुसैन ने बतया की फ़्रांस के राष्ट्रपति ने पैग़म्बर मोहम्मद साहब के पवित्र व्यक्तित्व के बारे में गलत चित्रण कर पैगम्बर मोहम्मद साहब का निन्दात्मक रेखाचित्र बनाकर फ्रांस के विभिन्न भवनों पर लगवाया था जिसके चलते पूरी दुनिया में मुस्लिम समाज में रोष व्याप्त है।

इसके विरोध में किशोरपुरा थाने के पास आक्रोशित मुस्लिम समाज के लोगों ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रोन का पुतला जलाया है प्रदर्शन में मुस्लिम समाज ने फ़्रांस के प्रोडक्ट के बहिष्कार का भी एलान किया है ।

हुसैन ने कहा की फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रोन ने इस्लाम और मुस्लिमों के ख़िलाफ़ एक हृदयविदारक ब्यान दिया है जो निन्दनीय है यह रबी उल अव्वल का महीना चल रहा है, यह महीना पैगम्बर मोहम्मद साहब का जन्मदिन दिवस का महीना है ऐसे में पैगंबर मोहम्मद साहब के सम्मान की रक्षा करना मुस्लिम समाज का दीनी एवं ईमानी कर्तव्य है।

पैगम्बर मोहम्मद साहब हमारे बच्चों, माता-पिता और हमारे जीवन की तुलना में हमारे लिए सर्वाधिक प्रिय हैं। उनके पवित्र व्यक्तित्व के बारे में किसी भी प्रकार के अपशब्द मुस्लिम समाज बर्दास्त नहीं करेगा।

विरोध प्रर्दशन में मौलाना शहीद रजा, जहीर खान, राजा खान, इमरान खान, सहजाद खान, मोहम्मद सकील, मोईनुद्दीन अंसारी, अफताब रजा, समीर रजा, आरिफ, जुगनू, मुस्ताक, गोलू,बिट्टू,फरहान, रियजुद्दीन, युनुस, नफीस सहित मुस्लिम समाज के सेकड़ों लोग मौजूद रहे |

अब्दुल वाशिद कादरी
राजस्थान हेड