You are currently viewing नल जल योजना हाथी का दाँत हो रहा साबित

नल जल योजना हाथी का दाँत हो रहा साबित

ब्युरो खगड़िया-मोहम्मद नैयर आलम

खगड़िया/प्रशासनिक उदासीनता के कारण बिहार सरकार का महत्वकांक्षी कार्यक्रम सात निश्चय योजना में शामिल नल जल योजना कागजों पर ज्यादा हो रही है। जिसका जीता जागता उदाहरण बेलदौर प्रखंड क्षेत्र के वार्ड नंबर 21, वार्ड नंबर 19, वार्ड नंबर 20, वार्ड नंबर 16, वार्ड नंबर 12 का नल जल योजना जो सिर्फ शोभा बढ़ाने तक ही है। वही कार्य एजेंसी के द्वारा हर घर पाइप बिछाया गया है, घर-घर टोटी तक लग गया। लेकिन लोगों को जल नसीब नहीं है, नल जल का जो पंप हाउस है वह हाथी का दांत साबित हो रहा है। वाटर टंकी एवं पाइप सरकारी स्थानों पर बेकार पड़ा हुआ है। अभी तक वार्ड नंबर 19 में कार्य एजेंसी के द्वारा पीसीसी सड़क तोड़कर सड़क को बर्बाद कर दिया है। यहां तक कि कार्य एजेंसी के द्वारा उक्त गड्ढे में पाइप तक नहीं बिछाया गया है। जिस कारण छोटे-छोटे बच्चे उक्त गड्ढे में गिरकर घायल हो चुका है। तब पर भी कार्य एजेंसी कुंभकरण की नींद में सोए हुए हैं। बताते चलें कि यदि पंप चालक पानी भी छोड़ते हैं तो सिर्फ मात्र 5 मिनट के लिए और यत्र तत्र पाइप फट जाने के कारण प्रत्येक दिन 50 लीटर से ज्यादे पानी बेकार हो रहा है। लेकिन सुशासन बाबू का कहना है कि हर घर नल जल एवं जल जीवन हरियाली सरकार का महत्वकांक्षी प्रोडक्ट है। लेकिन निचले स्तर के पदाधिकारी महत्वकांक्षी प्रोडक्ट को सुचारू रूप से नहीं चलने देते हैं। जिस कारण नल जल योजना हाथी का दांत साबित हो रहा है।