जिले में हुआ राष्ट्रीय पोषण माह का आगाज, कुपोषित बच्चों की होगी विशेष निगरानी

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

-बलरामपुर देहात परियोजना में सदर विधायक पल्टूराम ने जिला स्तरीय कार्यक्रम का किया शुभारम्भ

-सभी 10 परियोजनाओं, आंगनवाड़ी केन्द्रों व कुपोषित बच्चों के घर पर किया गया पौधरोपण

दिनांक 07 सितम्बर, 2020

बलरामपुर 07 सितम्बर। जिले के सभी बाल विकास परियोजना कार्यालय व आंगनवाड़ी केन्द्रों पर राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारम्भ किया गया। इस दौरान अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने पोषण देने वाले पौधों को रोपकर जिले से कुपोषण को मिटाने का संकल्प लिया। पोषण अभियान के तहत महिलाओं और बच्चों के पोषण स्तर की बेहतरी के उद्देश्य से इस वर्ष भी सितंबर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है।

बाल विकास परियोजना कार्यालय बलरामपुर देहात पर सोमवार को फीता काटकर जिला स्तरीय कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। विधायक ने कार्यालय परिसर में आंवला, नीबू और सहजन के पौधे लगाकर जनसमुदाय को कुपोषण भगाने का संदेश दिया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सदर विधायक पल्टूराम ने कहा कि राष्ट्रीय पोषण माह का मुख्य उद्देश्य जन आंदोलन और जनभागीदारी से कुपोषण को मिटाना है। इस वर्ष पोषण माह 2020 दो मुख्य उद्देश्य पर आधारित है। पहला अति कुपोषित बच्चों को चिन्हित और उनकी मॉनिटरिंग करना तथा दूसरा किचन गार्डन को बढ़ावा देने के लिए पौधारोपण अभियान है। इसलिए जिले के सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को पूरी मेहनत और लगन से काम करते हुए जिले से कुपोषण को दूर भगाना है। जिला कार्यक्रम अधिकारी सत्येन्द्र सिंह ने कहा कि जिला स्तर पर इस वर्ष पोषण माह के दौरान में विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। पोषण माह के दौरान आयोजित की गई गतिविधियों की दैनिक प्रविष्टि भारत सरकार के जन आंदोलन पोर्टल पर किया जाएगा। उन्होने कहा सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पोषण माह के दौरान सघन अभियान चला कर बच्चों की ग्रोथ मॉनिटरिंग सुनिश्चित करें। बाल विकास परियोजना अधिकारी बलरामपुर देहात राकेश शर्मा के द्वारा परियोजना स्तर पर आॅनलाइन पोषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस अवसर पर आयोजित ऑनलाइन पोषण प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर मुख्य सेविका सुमनलता को प्रशस्ति पत्र दिया गया। प्रतियोगिता में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता आराधना ने प्रथम, संगीता मौर्य, कोमल, गीता जयसवाल ने द्वितीय व रेखा देवी, लक्ष्मी शर्मा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया जिन्हे भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के दौरान बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष पिंकू सिंह, बृजेंद्र तिवारी, सीडीपीओ देहात राकेश शर्मा सहित परियोजना की समस्त मुख्य सेविका उपस्थित रहीं।

बाल विकास परियोजना कार्यालय गैसड़ी में भी पोषण माह का शुभारम्भ किया गया। गैसड़ी विधायक के प्रतिनिधि मिथलेश सिंह ने प्राथमिक विद्यालय चरनगहिया में मौसमी सब्जियों व फलदार पौधे लगाकर कुपोषण मिटाने का संदेश दिया। क्षेत्र की सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों पर भी कुपोषित बच्चों के घरों व सेटर्स पर सहजन सहित तमाम पौष्टिक पौधे लगाये गये। सीडीपीओ गैसड़ी गरिमा श्रीवास्तव ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण काल में बच्चों की ग्रोथ मॉनिटरिंग प्रभावित हुई है। उन्होंने बच्चों को सूचीबद्ध करने, शारीरिक माप का रिकॉर्ड सही कर गंभीर कुपोषित बच्चों का पोषण प्रबंधन तथा निगरानी एवं मूल्यांकन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उतरौला विधायक राम प्रताप वर्मा ने इमिलिया बनघुसरा ग्राम में अति कुपोषित बच्चे के घर में आंवले का पौधा लगाकर ग्रामीणों को कुपोषण के प्रति लोगों को जागरूक किया।

सभी परियोजनाओं में बाल विकास परियोजना अधिकारी, सुपरवाइजर व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा यह संकल्प लिया गया कि तृतीय राष्ट्रीय पोषण माह को एक जन आंदोलन का रूप देकर कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए कुपोषण को दूर भगाएंगे। जिले में कार्यक्रमों के आयोजन में सीडीपीओ रेहरा डॉक्टर संदीप गुप्ता, सीडीपीओ श्रीदत्तगंज राजेश कुमार सिंह, गैडास बुजुर्ग सीडीपीओ राजेंद्र कुमार, हरैया सीडीपीओ प्रियंका दुबे, उतरौला सीडीपीओ सरोज यादव, पचपेड़वा सीडीपीओ रेनू जयसवाल, तुलसीपुर सीडीपीओ नीलम कश्यप, गैसड़ी सीडीपीओ गरिमा, शहर सीडीपीओ संजीव कुमार, बलरामपुर देहात सीडीपीओ राकेश शर्मा का विशेष योगदान रहा।