नौतनवा:ईद-उल-अजहा बलिदान और त्याग का पर्व है,इसमें अशांति का कोई स्थान नहीं-सीओ

नौतनवा/महराजगंज। ईद-उल-अजहा (बकरीद) को लेकर गुरुवार की दोपहर सीओ के नेतृत्व में नौतनवा थाना परिसर में पीस कमेटी की बैठक की गई। आयोजित बैठक में बकरीद के त्योहार को शांति और शौहार्द से मनाने की अपील की गई।

बैठक की अध्यक्षता कर रहे सीओ नौतनवा रणविजय सिंह ने कहा कि ईद-उल-अजहा (बकरीद) बलिदान और त्याग का पर्व है। इस पर्व में गिला सिकवा भुला कर गले मिलने का त्योहार है। इसमें अशांति का कोई स्थान नहीं है। आगे उन्होंने कहा कि इस समय देश कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से जूझ रहा है। ऐसी स्थिति में आप लोग ईद-उल-अजहा की नमाज मस्जिदों में ना अदा कर अपने-अपने घरों में अदा करें। सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से अनुपालन करें,मास्क लगाएं। बकरे की कुर्बानी सार्वजनिक स्थानों पर ना करके,बकरे की कुर्बानी अपने अपने घरों में करें। जैसा कि शनिवार और रविवार को प्रदेश में साप्ताहिक 2 दिन का लॉक डाउन चल रहा है इसलिए अनावश्यक घरों से बाहर रोड पर ना निकले। आवश्यकता पड़ने पर ही घरों से बाहर निकले। सोशल मीडिया या अन्य जगहों पर किसी तरह का कुछ ऐसा पोस्ट न करें जिससे किसी भी समुदाय के लोग आहत हों। आगे उन्होंने कहा कि अगर कहीं से भी कोई अराजक तत्व माहौल बिगाड़ने कोशिश करता दिखाई देता है तो उसकी सूचना तत्काल स्थानीय थाने पर दें, ऐसे लोग हरगिज बख्शे नहीं जाएगें। पुलिस 24 घंटे आप लोगों की सेवा में तत्पर है। इस मौके पर थानाध्यक्ष शिव मनोहर यादव, एसएसआई शुभ नारायण दुबे, एसआई गुलाब यादव, एसआई गौरव यादव, एसआई विकास यादव, राधेश्याम सिंह, संतोष जायसवाल, सीताराम अग्रहरि, ओम प्रकाश जायसवाल, अमित यादव, वारिस कुरैशी, इस्लाम अंसारी, मौलाना जहरूद्दीन, मौलाना मोहम्मद जुनैद तनवीरी, हाफिज मोहम्मद मोदस्सिर अशरफी, विंध्याचल अग्रहरि, मौलाना मोबीन, मनोज राना, किस्माती देवी, सदामोहन उपाध्याय, राजा बॉयड, रियाज अहमद अंसारी, मौलाना कमरे आलम, मौलाना सैयद कमरुद्दीन, महताब अहमद आदि लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट-मुराद अली (ब्यूरो चीफ महराजगंज)