नौतनवा:मदरसे में योजना  (SPEMM) 12 माह पहले बंद होने के बावजूद सत्यापन लिस्ट में नाम,विभाग सुस्त प्रबंधक चुस्त

नौतनवा/महराजगंज। मामला नौतनवा थाना क्षेत्र के ग्रामसभा मुड़ीला में स्थित सनाउल्लाह एजुकेशन एंड टेक्निकल गर्ल्स कॉलेज का है। जिसके प्रबंधक द्वारा जून 2019 से अपने मदरसे में मदरसा आधुनिकीकरण योजना को बंद कर दिया गया है। इससे संबंधित दस्तावेज प्रबंधक ने जून में ही विभाग को भेज दिया था। लेकिन अफसोस की बात यह है कि जिला अल्पसंख्यक कल्याण विभाग द्वारा कई माह बीत जाने के बाद भी विभाग विधिक कार्रवाई करने में असफल रहा। जिसके कारण लखनऊ से मदरसा अंकपत्र सत्यापन के सूची में योजना बंद होने के बावजूद सत्यापन लिस्ट में मदरसे का नाम आ गया जिससे मदरसा शिक्षक परेशान हो गए।

विभागीय सांठगांठ से मदरसा प्रबंधक की मनमानी चल रही है

इस मदरसे के शिक्षक मोहम्मद आजम ने जिला अल्पसंख्यक कल्याण विभाग से न्याय की गुहार लगाई है कि अगर सत्यापन हो तो हम सभी शिक्षकों का सत्यापन कराया जाए अन्यथा मदरसे में योजना बंद हो गई हो तो उसका विभागीय दस्तावेज हम शिक्षकों को जल्द से जल्द उपलब्ध कराया जाए।

12 माह बीत जाने के बाद भी अल्पसंख्यक विभाग नही कर सका विधिक कार्यवाही शिक्षक परेशान

अब सवाल ये की आखिर सालों बीत जाने के बाद भी हमें विभागीय दस्तावेज क्यों नहीं उपलब्ध कराए जा रहे हैं। आखिर क्यों विभाग शिक्षकों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है।

इस संबंध में मदरसा आधुनिकीकरण एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष नुरुलहुदा सिद्दीकी ने बताया कि प्रबंधक और विभागीय मिलीभगत से शिक्षक को 2 महीने के अंदर कूट रचित तरीके से तीन नोटिस देकर इन्हें निकाल कर मोटी रकम लेकर किसी और शिक्षकों की नियुक्त कर लेते है ।यह मदरसा प्रबंधकों का एक अचूक हथियार बन गया है। और मदरसे की योजना वह जिले पर ही नोटिस देते हैं बाद में यही से रुकवा लेते हैं। नहीं तो इतना समय नहीं लगता। अगर प्रबंधक चाहे तो 2 शिक्षकों का वह सत्यापन करा सकता है।

वहीं जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी महराजगंज प्रवीण कुमार मिश्र का कहना है। कि लिस्ट में नाम आया है और वर्षों से शिक्षकों का भुगतान नहीं हो रहा है। इससे यह साफ है कि योजना बंद हो गई है। कोई शिक्षक लाभान्वित नहीं हो रहे हैं और जहां तक लिस्ट में नाम की बात है तो सत्यापन होने के बाद रिपोर्ट लगकर चली जाएगी कि इस मदरसे में योजना बंद हो चुकी है। किसी भी शिक्षकों का सत्यापन इस मदरसे का नहीं होगा।

रिपोर्ट-मोहम्मद आरिफ (संवाददाता नौतनवा ब्लाक)