कुलपति महोदय को आखिरी चेतावनी देते हुए एनएसयूआई ने ज्ञापन दिया

विगत एक महीने से बुंदेलखंड एनएसयूआई कुलपति महोदय के फीस वृद्धि को लेकर ज्ञापन एवं अन्य प्रकार से विरोध दर्ज करा रही है लेकिन इस बात से कुलपति को कोई फर्क नही पड़ रहा है जिसके चलते आज बुंदेलखंड प्रभारी विनोद झाखड़ के निर्देश अनुसार प्रदेश अध्यक्ष नफीस मकरानी के नेतत्व में एवं झांसी जिलाध्यक्ष अज़हर खान की अध्यक्षता में आज कुलपति महोदय से मुलाकात कर आखरी चेतावनी देते हुए ज्ञापन दिया गया । जिसमें प्रदेश अध्यक्ष नफीस मकरानी एवं प्रदेश उपाध्यक्ष अभिषेक प्रताप ने कुलपति से बात करते हुए छात्र हित मे मुख्य दो बात रखी जिसमे पहली बात की इस साल फीस वृद्धि को तत्काल वापस लिया जाय एवं दूसरी बात की देश मे कोरोना 19 के मौजूद आंकड़ो को देखते हुए छात्रों को प्रमोट किया जाये। जिसमे कुलपति के द्वारा कोई खास प्रतिक्रिया समझ नही आई उनकी बातों से ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसा कि उनको किसी संगठन द्वारा एक मीठा घोल पिला दिया गया हो जो बस उन्हें छात्रों से सामने परोसना हो ।


नफीस मकरानी एवं अभिषेक प्रताप ने कुलपति को आखरी चेतावनी देते हुए कहा कि यदि आप इन दोनों ही बातों पर जल्द ही विचार कर अपनी प्रतिक्रया नही देंगे और यदि आप इस परिस्तिथि में भी परीक्षा कराएंगे तो एनएसयूआई आपके ऊपर अटेंप्ट टू मडर का मुकदमा दर्ज करायेगी ।
वही अज़हर खान ने कुलपति महोदय से कहा कि एक ओर लगभग दो महीने से पूरा देश बन्द होने के कारण अभिभावकों की आर्थिक स्तिथि ठीक नही है और इस समय प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले छात्रों की जो फीस वृद्धि का फैसला है वो सरासर गलत है जहां एक ओर अभिभावकों की आथिर्क मंदी की वजह से कमर टूटी हुई है ऐसे हालत में अभिभावक कहा से इतनी ज्यादा फीस भर पाएंगे ।
अज़हर खान ने कुलपति महोदय से निवेदन करते हुए कहा कि यह फीस वृद्धि आप आने वाले एक दो साल में कर लेना जबतक देश मे लोगो की आथिर्क स्तिथि भी कुछ हद तक बेहतर हो सकेगी ।
इस मौके पर गौरब झारखरिया,राहुल बुंदेला,ऋतिक शुक्ला(मोंटी),ज़ीशान,जुनैद,अब्दुल कफील,आकाश,सुमित,आदि लोग मौजूद रहे ।