गणेश चतुर्थी के मौके पर पूजा-पंडाल में कोई भी मूर्ति स्थापित न की जाए और न ही कोई शोभा यात्रा की अनुमति दी जाए

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

गणेश चतुर्थी के मौके पर पूजा-पंडाल में कोई भी मूर्ति स्थापित न की जाए और न ही कोई शोभा यात्रा की अनुमति दी जाए

किसी भी धार्मिक स्थल पर लोगों की भीड़ एकत्र न होने पाये, यह सुनिश्चित किया जाए।

धारा-144 का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए-जिला मजिस्ट्रेट

दिनांक 18 अगस्त, 2020

बलरामपुर। जिला मजिस्ट्रेट, बलरामपुर कृष्णा करुणेश ने बताया कि वर्तमान में जनपद में कोरोना महामारी वृहत स्तर पर फैल रहा है। माह अगस्त में पड़ने वाले त्यौहार जन्माष्टमी, कजलीतीज एवं मोहर्रम का त्यौहार विभिन्न तिथियों में आयोजित होंगे। भारत सरकार की कोविड-19 की गाईडलाइन्स का पालन करते हुये त्यौहार सादगी से मनाया जाए। इन त्यौहारों पर कोई भी जुलूस, झांकी न निकाली जाए एवं किसी भी दशा में भीड़ एकत्रित न हो। इस अवधि में आसामाजिक तत्वों द्वारा कानून व्यवस्था भंग करने का प्रयास किया जा सकता है एवं आतंकवादी नागरिकों को नुकसान पहुॅचा सकते है। ऐसी स्थिति में मौके पर सतर्क रहने की आवश्यकता है।

जिला मजिस्ट्रेट ने त्यौहारों पर कोविड-19 से बचाव एवं कानून व्यवस्था से संबन्धित निर्देशों का अक्षरशः पालन कराने का निर्देश समस्त उप जिलाधिकारी/समस्त क्षेत्राधिकारी को दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर कोविड-19 महामारी के रोकथाम हेतु निर्देश दिये गये है, उसका कड़ाई से अनुपालन किया जाए।

गणेश चतुर्थी के मौके पर पूजा-पंडाल में कोई भी मूर्ति स्थापित न की जाए और न ही कोई शोभा यात्रा की अनुमति दी जाए। सभी श्रृद्धालुओं को प्रेरित किया जाए कि इन त्यौहारों को अपने-अपने घरों पर ही मनाये। इसी प्रकार मोहर्रम के अवसर पर किसी भी प्रकार के जुलूस की अनुमति न दी जाए एवं धर्म-गुरुओं से संवाद स्थापित कर कोविड-19 के दिशा निर्देशों का अनुपालन कराया जाए। ऐसे समस्त कार्यक्रमों की पीस कमेटी की मीटिंग कराते हुये सभी सामाजिक एवं धर्म गुरुओं से व्यवस्था बनाये रखने में सहयोग लिया जाए। संवेदनशील/साम्प्रदायिक एवं कन्टेनमेन्ट जोन में पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनाती की जाए। किसी भी धार्मिक स्थल पर लोगों की भीड़ एकत्र न होने पाये, यह सुनिश्चित किया जाए। त्यौहारों पर सार्वजनिक स्थल जैसे- बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन और संवेदनशील स्थान/धार्मिक स्थल पर व्यवस्थाएं/चेकिंग कराई जाए। सघन जांच एवं तलाशी की व्यवस्था के लिए स्वान-दल, आतंकवादी निरोधक दस्ता एव ंबम निरोधक दल की तैनाती सुनिश्चित की जाए। यातायात बाधित न होने पाये एवं बेरियर व पुलिस चेक पोस्ट लगाकर संदिग्ध वाहनों की चेंकिग कराई जाए। मोटर अधिनियम के नियमों का पालन सख्ती से कराया जाए। जन सुविधाएं जैसे- बिजली, पेयजल एवं साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए। आकस्मिक सेवा के दृष्टिगत सभी अस्पतालों को तैयारी हालत में रखा जाए एवं डाक्टर तथा पैरा मेडिकल स्टाफ की ड्यूटी राउण्ड द क्लाॅक लगायी जाए। आसामाजिक तत्वों एवं अफवाह फैलाने वालों पर विशेष ध्यान दिया जाए। सोशल मीडिया की राउण्ड द क्लाॅक माॅनिटरिंग की जाए एवं कोई भी आपत्तिजनक पोस्ट संज्ञान में आते ही तत्काल ब्लाक करते हुये प्रभावी कार्यवाही की जाए। धारा-144 का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। सार्वजनिक स्थानों पर किसी भी दशा में शस्त्रों का प्रदर्शन न हो एवं अवैध शस्त्रों को लेकर चलने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाए। महिलाओं से छेड़खानी आदि की घटनाओं को रोकने के लिए सादी वर्दी में पुरुष एवं महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती की जाए। किसी भी सार्वजनिक स्थल पर धार्मिक कार्यक्रम/गतिविधियों की अनुमति नहीं होगी।

समस्त उप जिला मजिस्ट्रेट/ क्षेत्राधिकारी त्यौहारों पर सामाजिक व साम्प्रदायिक सौहार्द बना रहे यह सुनिचिश्त करेंगें तथा सुरक्षा व्यवस्था इस तरह सुनिश्चित की जाए कि किसी भी दशा में किसी प्रकार की कानून व्यवस्था की समस्या उत्पन्न न होने पाए।