स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सहायक अध्यापिका द्वारा संविधान निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर जी का किया गया घोर अपमान। ग्रामीणों के विरोध के बाद महिला अध्यापक के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा ।

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के गृह जनपद कौशाम्बी मे बाबा साहब की तस्वीर के अपमान के मामले को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया । पिपरी थाना क्षेत्र के अकबरपुर मिर्जापुर गांव मे स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जब पूरा देश महापुरषों का सम्मान कर रहा था तभी गांव के प्राइमरी विद्यालय मे संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की बनी दीवार पर तस्वीर को महिला अध्यापक सुधा सिंह ने चूने से पोतवा दिया । ग्रामीणों के विरोध करने पर सहायक अध्यापक सुधा सिंह ने ग्रामीणों को धमकी भी दी ।

ग्रामीणों को जब सहायक अध्यापिका के इस घृणित कार्य की जानकारी हुई तो ग्राम प्रधान सहित सैकड़ों लोगों ने स्कूल पहुंच कर अध्यापिका से तस्वीर को मिटाने का कारण पूछा तो उसने कहा मेरी मर्जी मैंने मिटवा दिया, मेरे विद्यालय में ऐसे लोगो की फोटो की जरूरत नहीं है। तुमको जो करना है वो करो ।

इस बात से नाराज ग्रामीणों ने विरोध करना शुरू किया तो अध्यापिका ने ग्रामीणों को पुलिस बुला कर पिटवाने की धमकी देने लगी। कुछ देर में स्थानीय चौकी की पुलिस आ गई और पुलिस ने ग्रामीणों को समझा कर मामले को शांत कराने का प्रयास किया, लेकिन गुस्साए ग्रामीणों ने सहायक अध्यापिका पर बाबा साहब का अपमान करने की सख्त कार्यवाही की मांग करने लगे ।

पुलिस ने अध्यापिका पर दबाव बनाकर ग्रामीणों से माफी मांगने को कहा तो अध्यापिका ने मना कर दिया। जब ग्रामीणों ने एफआईआर कराने की बात कहीं तो अध्यापिका गलती का एहसास करने लगी और माफी मांगी । सहायक अध्यापक की इस घृणित कार्य की शिकायत ग्राम प्रधान व अन्य ग्रामीणों ने पिपरी थाना में लिखित प्रार्थना दिया तो एसपी के निर्देश पर महिला अध्यापक सुधा सिंह के खिलाफ धारा 426 ,505 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है ।