राजस्थान में सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है

राजस्थान में सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. सुप्रीम कोर्ट के बाद अब हाईकोर्ट में भी सचिन पायलट के खेमे को राहत मिली. जहां एक तरफ सचिन पायलट को कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया तो वहीं, कोर्ट से राहत न मिलने के बाद अशोक गहलोत ने शक्ति प्रदर्शन करने का निर्णय किया. वह अपने विधायकों संग गवर्नर हाउच भी पहुंचे. अशोक गहलोत ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उन्होंने राज्यपाल से सत्र बुलाने की की मांग की है, लेकिन राज्यपपाल की तरफ से कोई भी जवाब नहीं आया है.

अशोक गहलोत ने बताया, “मैंने फिर उनसे टेलीफोन पर बात की है कि आपका एक संवैधानिक पद है उसकी गरिमा है..कृपा करके अपना फैसला करें.” सीएम गहलोत ने बताया कि वह विधानसभा शुरू करना चाहते हैं. इसके साथ ही गहलोत का दावा है कि उनके पास स्पष्ट बहुमत है. गहलोत ने बताया कि हमारे साथियों को बीजेपी की देखरेख में बंधक बनाए रखा गया है. राजस्थान में प्रदेश की जनता हमारे साथ है. इस समय कोरोना से जिंदगी बचाने की चुनौती है. हमने शानदार मैनेजमेंट किया है. पूरे देश में वाहवाही हो रही है…ऐसे माहौल में सरकार गिराने की साजिश हो रही है.