You are currently viewing पावर कॉरपोरेशन के निविदा एवं संविदा कर्मचारियों ने कसया में निकाला कैंडल मार्च

रिपोर्टर- रीतेश कुमार सिंह

पावर कॉरपोरेशन के निविदा एवं संविदा कर्मचारियों ने कसया में निकाला कैंडल मार्च

कुशीनगर जनपद के कसया थाना क्षेत्रांतर्गत कसया हाइडिल पर उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन निविदा एवं संविदा कर्मचारी संघ के आह्वान पर कसया विद्युत विभाग के निविदा एवं संविदा कर्मचारियों ने शुक्रवार को विद्युत विभाग कसया से गांधी चौक तक कैंडल मार्च निकाला। कर्मचारियों द्वारा बताया गया कि हमारे साथ जो शोषण हो रहा है, उसके खिलाफ चरणबद्ध आंदोलन करेंगे। इस परिपेक्ष्य में केंद्रीय कमेटी के आह्वान पर अभियंता कार्यालय कसया से गांधी चौक तक अपने मांगों के समर्थन में कैंडल मार्च शाम 7:00 बजे आयोजित किया गया। इस मौके पर विनोद कुमार तिवारी ने कहा कि जब तक सरकार द्वारा हमारे मांगों को नहीं मान लिया जाता तब तक हम संविदा कर्मी चरणबद्ध आंदोलन जारी रखेंगे। इनका प्रथम मांग आउटसोर्सिंग के माध्यम से कार्य कर रहे हैं। कर्मचारियों का न्यूनतम मजदूरी अट्ठारह हजार रुपये निर्धारित कर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा समय-समय पर दिये जाने वाले हित लाभों को दिया जाए। दूसरा मांग आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को विभाग की नीतियों के अनुरूप मास्टर रोल की व्यवस्था के तहत समायोजित कर समान काम का समान वेतन दिया जाए। तीसरा मांग आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की आई.पी.एफ. व ई.एस.आई. में हुए घोटाले की जांच किया जाए। चौथा मांग कर्मचारियों की हो रही दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाते हुए कार्य के दौरान घायल कर्मचारियों का पूर्ण इलाज कराया जाए तथा परिवार के पालन पोषण हेतु उपचार अवधि का वेतन दिया जाए। पांचवा मांग आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के परिवारों को दुर्घटना हित लाभ के रूप में 1000000 रुपए का अनुग्रह राशि दिया जाए तथा परिवार के एक सदस्य को विभाग में सेवा पर लिया जाए। छठा मांग आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को पेट्रोल व मोबाइल भत्ता दिया जाए। सातवां और अंतिम मांग आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को कार्य से हटाने तथा स्थानान्तरण करने के नाम पर की जा रही धन उगाही रोका जाए और जांच कराया जाए। आगे तिवारी ने कहा कि अगर हमारी बातों का ध्यान नहीं दिया गया तो आगे भी आंदोलन जारी रखेंगे।
इस दौरान जिलाध्यक्ष अर्जुन राव,अभिनाश पाण्डेय, जिला उपाध्यक्ष रामकृपाल सिंह, महामंत्री विनोद मणी,रामईकबाल, देवेन्द्र पाण्डेय,अमित पाण्डेय,अवध राज, अशोक पाण्डेय तथा समस्त संविदा कर्मी आदि बहुत अधिक संख्या में उपस्थित रहे।