You are currently viewing प्रतापगढ़ जिले में कॉग्रेस नेताओं पर लगे फर्जी मुकदमे वापस हों- अरूण विद्यार्थी

प्रतापगढ़ जिले में कॉग्रेस नेताओं पर लगे फर्जी मुकदमे वापस हों- अरूण विद्यार्थी

जिलाधिकारी को सौंपा राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन

सैकड़ों की संख्या में मौजूद रहे कार्यकर्ता

रिपोर्ट – ब्यूरो चीफ आरपी यादव के साथ बंशीलाल

कौशाम्बी। सत्ता के जोर पर जिस तरह से भारतीय जनता पार्टी के नेता जबरिया फर्जी मुकदमे दर्ज करा रहे उससे प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो रही है। प्रतापगढ़ जिले में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी और पार्टी के सीएलपी लीडर मोना मिश्रा वहां के सांसद संगम गुप्ता के द्वारा फर्जी मुकदमे दर्ज कराए गए। यही नहीं एक ही मामले में चार अलग-अलग लोगों ने मुकदमे हैं जो कानून व्यवस्था का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन और सत्ता का दुरुपयोग है। उक्त बातें पार्टी जिलाध्यक्ष अरूण विद्यार्थी ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट में आयोजित ज्ञापन के दौरान कही। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश सचिव व प्रभारी रामकिशन पटेल और पूर्व विधायक विजय प्रकाश मौजूद रहे।

इस मौके पर बोलते हुए पूर्व विधायक विजय प्रकाश ने कहा कि जिस प्रकार से पार्टी के नेता प्रमोद तिवारी और सीएलपी लीडर मोना मिश्रा पर मुकदमा हुआ है। वह सरकार के तानाशाही रवैए को दिखाता है जहां भाजपा सांसद के झूठे तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया। वहीं इसी मामले को लेकर तीन अन्य लोगों से भी इसी घटना के तहत मुकदमा दर्ज कराया जो कानूनन सही नहीं है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता के द्वारा दी गई तहरीर पर अभी तक मुकदमा नहीं दर्ज किया गया। बैठक में बोलते हुए पार्टी नेता वेद प्रकाश पांडे सत्यार्थी ने कहा कि यदि पार्टी के पूर्व सांसद रहे नेता प्रमोद तिवारी और उनकी पुत्री मुन्ना मिश्रा पर लगे मुकदमें सरकार वापस नहीं लेती और इनके द्वारा दी गई तहरीर पर भी मुकदमा नहीं दर्ज किया जाता तो पार्टी के कार्यकर्ता सड़क पर उतर कर अपना विरोध दर्ज कराएंगे। जिसकी पूरी जिम्मेदारी मौजूदा भाजपा सरकार की होगी। कार्यक्रम बोलते हुए पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष तलत अजीम ने कहा कि रामपुर खास विधानसभा से कभी भी कोई दूसरा दल चुनाव नहीं जीत पाया यही हताशा अब प्रमोद तिवारी के खिलाफ इस षड्यंत्र के रूप में लाया गया है। लेकिन कांग्रेस के सिपाही पूरे प्रदेश में प्रमोद तिवारी के लड़ाई को लड़ने के लिए तैयार हैं। राज्यपाल के नाम संबोधित दिए गए ज्ञापन में फर्जी मुकदमे को वापस लिए जाने और पार्टी नेता प्रमोद तिवारी और मोना मिश्रा के द्वारा दिए गए तहरीर पर मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की गई।
आशीष कुमार मिश्रा पप्पू, रामलोटन बाबा, बरसाती लाल पंडा, तलत अजीम, शाहिद सिद्दीकी, मिसबाहउल ऐन, वेद प्रकाश पाण्डेय सत्यार्थी, गौरव पाण्डेय,
अमित द्विवेदी आजाद एनएसयूआई,
अंकुर शुक्ला, जितेंद्र शर्मा, अनिल पांडे,
सचिन शुक्ला, कौशलेश द्विवेदी, नुरूतजमा, अल्कमा उस्मानी, श्रवण यादव, तौकीर, भगिरथी पटेल, विवेक माइकल, मो गुलाम, गुड्डू अरका, सफीक, जमाल आदिल, देशराज पटरिया, लालचंद, फैसल अली, रजनीश पांडेय, भारत गौतम, मथुरा दुबे, मकसूद कुरैशी, कमलाकांत, विनय पासी, रामाकांत
त्रिपाठी, राजनरायण पासी, शशि प्रताप त्रिपाठी, उदय यादव सहित सैकड़ों
की संख्या में कांग्रेसी मौजूद रहे।