You are currently viewing प्रयागराज: सरदार पटेल के विचारों से एक नई ऊर्जा का होता है संचार : पुष्पराज सिंह

प्रयागराज: सरदार पटेल के विचारों से एक नई ऊर्जा का होता है संचार : पुष्पराज सिंह

बीएल सिंह इंटरमीडिएट कालेज, श्रद्धा पुष्प पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट एवं एन सिंह प्राइवेट आईटीआई में धूमधाम से मनाया गया सरदार पटेल जयंती
……………………………
मोहम्मद आरिफ सिद्दीकी
……………………………
प्रयागराज। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचारो को आत्मसात करने से मनुष्य के अंदर एक नई ऊर्जा का संचार होता है। उक्त बातें पूरेखगन गांव स्थित बीएल सिंह इंटरमीडिएट कालेज व श्रद्धा पुष्प पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट एवं एन सिंह प्राइवेट आईटीआई के सरंक्षक पुष्पराज सिंह ने तीनों संस्थानो द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती समारोह में कही। आगे कहा कि देश की आजादी में सरदार पटेल का योगदान हमेशा स्मरणीय रहेगा। 562 देशी रियासतों का भारत में विलय सरदार पटेल ने ही करवाया था। अटल निश्चय से ओत प्रोत उनके विचार किसी की भी जिंदगी में और समाज के परिदृश्य में बदलाव ला सकते हैं।

इंस्टीट्यूट के डॉ एसपी पटेल ने कहा कि सरदार पटेल कहा करते थे कि आज हमें ऊंच-नीच, अमीर-गरीब, जाति-पंथ के भेदभावों को समाप्त कर देना चाहिए तभी हम एक उन्नत देश की कल्पना कर सकते है।

प्रधानाचार्य अरविंद सिंह ने कहा कि सरदार पटेल के अनुसार मनुष्य को ठंडा रहना चाहिए और क्रोध नहीं करना चाहिए क्योंकि लोहा भले ही गर्म हो जाए परन्तु हथौड़े को तो ठंडा ही रहना चाहिए अन्यथा वह स्वयं अपना हत्था जला डालेगा।कालेज के प्रबंधक नागेंद्र सिंह ने कहा कि सरदार पटेल की एक ही इच्छा थी कि भारत एक अच्छा उत्पादक हो और इस देश में कोई अन्न के लिए आंसू बहाता हुआ भूखा ना रहें। आयोजित समारोह में सरदार पटेल के चित्र पर शिक्षक,चिकित्सक, छात्रो ने पुष्प माला अर्पित कर उनके बताए मार्गो पर चलने का संकल्प लिया।समारोह में प्रमुख रूप से राम सूरत पाल,विनय कुमार शर्मा, पवन गुप्ता, जगतबहादुर सिंह जय बाबू पांडेय आदि भारी संख्या में गणमान्य शामिल रहे।