कई महीनों से बैंकों के चक्कर काट रहे फिर भी नहीं मिल रहा है प्रधानमंत्री बीमा का पैसा

रवि चंद्रा

कई महीनों से बैंकों के चक्कर काट रहे हैं फिर भी नहीं मिल रहा है प्रधानमंत्री बीमा का पैसा आपको बताते चलें कि जहां एक तरफ सरकार कोरोनावायरस महामारी के चलते लोगों को हर संभव मदद का प्रयास कर रही है वही मऊआइमा बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर की मनमानी के चलते नहीं हो रहा है लोगों का काम मामला इस प्रकार है मऊआइमा थाना क्षेत्र सुल्तानपुर खास के सुरेश चंद्र के बेटे एक नाम शुभम केशरवानी का बैंक ऑफ बड़ौदा में बचत खाता संख्या 35598100003438 है उस खाते का प्रधानमंत्री बीमा योजना के तहत ₹12 वार्षिक बीमा था जो समय-समय पर काट लिया जाता था खाताधारक शुभम केशरवानी कि दिनांक 27/ 11/ 2019 को एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई थी तब से प्रार्थी बैंक मैनेजर शाखा मऊआइमा में बीमा की धनराशि वारिस गढ़ पाने के लिए कई महीनों से बैंक का चक्कर काट रहे हैं जबकि बैंक के तरफ से सारे दस्तावेज देने के बावजूद भी प्रार्थी बैंक का चक्कर काट रहा है। अंत में प्रार्थी परेशान होकर पत्रकारों से अपनी समस्या बताई वही प्रार्थी का कहना है कि जब भी मैं बैंक मैं आता हूं मुझे बैंक मैनेजर लॉक डाउन का बहाना हवाला देकर आजकल मुझे वापस लौटा देते हैं जो कि मैं बैंक में 8 बार लिखित आ चुका हूं और न जाने कितनी बार अनगिनत आ चुका हूं फिर भी मेरा काम नहीं हो रहा आज मैं लगभग छह सात महीनों से बैंक का चक्कर काट रहा हूं यह जांच का विषय है।