वीडियो कांफ्रेंसिंग से जाना कृषि स्नातकों का हाल

महासचिव प्रियंका गांधी ने किया हर संभव मदद का वादा

लखनऊ 17 सितम्बर 2020। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने उप्र के सभी कृषि विश्वविद्यालयों के कृषि स्नातक युवाओं के समूह से बातचीत की।

महासचिव प्रियंका गांधी से बातचीत में युवाओं ने अपना दर्द साझा किया। कृषि स्नातकों ने अपनी बात करते हुए महासचिव प्रियंका गांधी से युवाओं ने कहा कि कृषि स्नातक छात्र और छात्राएं मजदूरी करने को बाध्य हो गए हैं।

गौरतलब है कि 50,000 से अधिक कृषि स्नातक सरकार की युवा विरोधी नीतियों के शिकार हुए हैं। महासचिव प्रियंका गांधी से संवाद में आचार्य नरेन्द्रदेव कृषि विवि, चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय, सरदार पटेल कृषि विवि मेरठ, इलाहाबाद कृषि विवि के स्नातक युवाओं ने हिस्सा लिया।

महासचिव से बातचीत में अपना दर्द साझा करते हुए युवाओं ने कहा कि भाजपा सरकार में कोई कृषि विभाग की भर्ती नहीं आ रही है जबकि सरकार किसानों की आय दोगुना करने की बात करती है।

वीडियो कांफ्रेंसिंग में महासचिव प्रियंका गांधी को युवाओं ने बताया कि एग्रीकल्चर असिस्टेंट(कृषि प्राविधिक) की भर्ती परीक्षा का परिणाम डेढ़ साल से रुका हुआ है, क्या चल किसी को पता नहीं।

कृषि विज्ञान में स्नातक करने के बाद दर दर भटकने को मजबूर युवाओं ने महासचिव से कहा कि कृषि विभाग के 75 फीसदी पद खाली हैं। लेकिन सरकार कोई भर्ती नहीं ला रही है। कांग्रेस सरकार द्वारा कृषि स्नातक युवाओं को ऋण देने की योजना को भी युवा विरोधी सरकार ने बंद कर दिया है।

महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि यूपी में युवाओं का भविष्य सरकार ने अंधकारमय कर दिया है। ऐसा लगता है कि सरकार युवाओं के प्रति गैर जिम्मेदार है। महासचिव ने युवाओं से कहा कि यह न्याय की लड़ाई है, इसमें कांग्रेस पार्टी युवाओं के साथ खड़ी है।