You are currently viewing FATEHPUR- थानाध्यक्ष शेर सिंह राजपूत के तबादले पर उठ रहे सवाल

थानाध्यक्ष शेर सिंह राजपूत के तबादले पर उठ रहे सवाल

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर (ब्यूरो)– किशनपुर थाने पर तैनात थानाध्यक्ष शेर सिंह राजपूत का तबादला कर दिया गया जिसके बाद क्षेत्रीय लोगों को थानाध्यक्ष के तबादले की जानकारी लगी तो लोगों की सांसे अटक सी गई लोगों को ऐसा लगा कि शायद न्याय की नगरी का एक राजा राजनीति की भेंट चढ़ा गया और उनके तबादले को लेकर क्षेत्र में कई प्रकार के सवाल उठने लगे ।
जानकारी के मुताबिक फतेहपुर जनपद के किशनपुर थाने पर तैनात थाना अध्यक्ष शेर सिंह राजपूत अपनी बेहतर पुलिसिंग के लिए जाने जाते थे शेर सिंह राजपूत ने अभी हाल ही में किशनपुर थाने का चार्ज संभाला था इनके चार्ज संभालते ही क्षेत्र के अपराधियों में हड़कंप मच गया था थानाध्यक्ष ने चार्ज संभालने के बाद ही क्षेत्र में हो रहे अपराध पर लगातार अंकुश लगाने में कामयाबी हासिल की और अपराधियों की कमर तोड़ने के लिए भी जाने जाने लगे लेकिन शनिवार की देर रात पुलिस अधीक्षक की तबादला एक्सप्रेस चली और उस तबादला एक्सप्रेस पर शेर सिंह राजपूत भी सवार हो गए और उन्हें किशनपुर थाने से हटा कर औंग का थाना अध्यक्ष बना दिया गया शेर सिंह राजपूत के कार्यकाल में किशनपुर थाने पर लगने वाले दलालों के जमावड़े दूर दूर तक नजर नहीं आते थे पत्रकारों को भी सम्मान देते थे क्षेत्र में अपराधियों पर थाना अध्यक्ष का भय इस तरह बैठ गया था कि अपराधी अपराध करने से भी कतराने लगे थे शेर सिंह राजपूत के आने के बाद क्षेत्रीय लोगों में न्याय की एक आस जगी थी उन्हें ऐसा लगा था कि न्याय की नगरी में किसी राजा ने कमान संभाल ली है और अब हमें न्याय मिलता रहेगा लेकिन यह सब उच्च अधिकारियों को नागवार गुजरा और एक महीने के अंदर ही शेर सिंह राजपूत का तबादला कर दिया गया अभी महीने भर पहले ही किशनपुर थाने पर तैनात रहे पूर्व थाना अध्यक्ष पंधारी सरोज के तबादले के बाद शेर सिंह राजपूत को किशनपुर थाने की कमान सौंपी गई थी लेकिन शनिवार की देर रात उनका तबादला हो गया जिसके बाद क्षेत्रीय लोगों के बीच तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं लोगों की माने तो शेर सिंह राजपूत राजनीति का शिकार हो गए क्योंकि यह किसी के दबाव में नहीं निष्पक्ष पुलिसिंग करते थे जो सत्ता पक्ष के नेताओं को नागवार गुजरा और उच्च अधिकारियों की शरण पहुंचकर उन्होंने सत्ता का दबाव दिखाते हुए इनका तबादला करवा दिया ।
खैर कुछ भी हो पर शेर सिंह राजपूत ने एक महीने के अंदर ही किशनपुर क्षेत्र की जनता पर जो बेहतर पुलिसिंग का कार्य किया है जनता उसे याद कर रही है ।