You are currently viewing ऐतिहासिक युद्ध से रावण का हुआ अंत राम दल में जय जय कार

ऐतिहासिक युद्ध से रावण का हुआ अंत राम दल में जय जय कार

रिपोर्ट – बंशीलाल

कौशांबी! मुगलों के जमाने से शहजादपुर गांव सभा में रामलीला का मंचन दूर-दूर के कलाकारों द्वारा किया जाता है! इस रामलीला में हिंदू मुस्लिम एक सौहार्द कायम करते हैं! सभी धर्मो और जातियों के लोग मिलकर रामलीला का आनंद लेते हैं! इसके बाद दशहरा के दिन दोनों समुदायों के बीच कुप्पी युद्ध आयोजन किया जाता है! कुप्पी युद्ध में यदि किसी प्रकार की किसी भी व्यक्ति विशेष को चोटे लगती हैं! या कट जाता है! तो उस मैदान की मिट्टी लगाने से उनका जख्म सही हो जाता है! बुजुर्गों की मान्यता है! कि शहजादपुर की रामलीला में हिंदू मुस्लिम मिलकर मानते हैं एक सप्ताह चलने वाली रामलीला में हिंदू मुस्लिम परिवार के बच्चे राम लीला का आनंद उठाते हैं! दशहरा पर्व पर रामलीला के अंतिम दिन कुप्पी युद्ध का आयोजन हुआ इसके उपरांत राम ने रावण पर बाण चलाकर अहंकार का अंत कर दिया! इससे रामदल में खुशी की लहर दौड़ गई लोगों ने पटाखे छुड़ाकर खुशी का इजहार किया! रामदल में राम की जीत पर लोगों ने जय जय कार किया! वहीं दूरदराज से आए महिलाएं मेला में अनेक प्रकार की सामान्य खरीददारी भी किया इस अवसर पर कोकराज व क्षेत्र शहजादपुर चौकी पुलिस स्टाप सहित मुस्तैद रही!