बेलदौर डुमरी घाट महादलित टोला सहित दर्जनों गांव में घुसा बाढ़ का पानी/राहत और बचाव कार्य हुआ सुरु

सुमलेश कुमार यादव खगड़िया

बेलदौर खगड़िया/ जहां एक तरफ कोरोनावायरस बीमारी के डर से आदमी डरे और सहमें हुए हैं वहीं आंधी और बारिश ने किसानों का कमर हीं तोड़ कर रख दिया है।बचे खुचे अरमानों पर अब बाढ़ का कहर जारी है। बाढ़ के बिकराल रुप के चपेट में बेलदौर प्रखंड के दर्जनों गांव आ चुके हैं। जहां कैंजरी पक्षिमपार बाढ़ के चपेट में था वहीं अब पुरब पार में भी बाढ़ और बारिश से किसानों के द्वारा रोपा हुआ धान के फसल को अपने गिरफ्त में ले लिए हैं। धान लगा हुआ फसल बाढ़ के पानी में डुबकर बर्बाद हो चुका है। अन्न दाता खुद अन्न के लिए तरसने लगे हैं। सुबह चुल्हा जलाते हैं तो शाम को बंद हो जाता है। कमोवेश यही स्थिति,माली,पिरनगरा,बोबील,ईदमादी,कुर्बन,पचौत दिघौन, सहित दर्जनों गांवों का है। बाढ़ के चपेट में आए डुमरी वार्ड नं 3 महादलित टोला में बेलदौर सीओ अमित कुमार एवं बीडीओ शशिभूषण कुमार ने डुमरी घाट महादलित टोला पहुंच कर 91महांदलित परिवार को सुखा राशन उपलब्ध करवाऐ। वहीं स्थानीए प्रशासन के सहयोग में आगे आए पत्रकार सुमलेश कुमार यादव ने भी बाढ़ पीड़ित परिवारों को अपने हाथों से सुखा राशन,चुरा चीनी बांटे।सुखा राशन पाकर बाढ़ प्रभावित परिवार कुछ हद तक राहत महसूस कर रहे थे।
डुमरी वार्ड नं 3 महादलित परिवार के घर में घुसा बाढ़ का पानी, जिसके कारण सेकरों बाढ़ पीड़ित परिवारों का चुल्ला चौंका बंद था ‌बाढ़ पिरीत ने प्रेस अपना दुःख सुनते हुए बोले,एक टाइम हीं नसीब होता है भोजन। दर्जनों परिवार का उजर गए घर आसियाने। बोले बाढ़ पिरीत चंपा देवी, पुनिया देवी,रुबी देवी डुमरी घाट बाढ़ पिरीतो को देखने नहीं आते हैं उच्च पदाधिकारी बिते दस दिनों से नहीं जल रहा है चुलहा,भुखे प्यासे समय काटते हैं कभी कभी बच्चे सो जाते हैं भुखे। वहीं डुमरी घाट महादलित टोले पहुंच कर बेलदौर सीओ अमित कुमार एवं बीडीओ शशिभूषण कुमार ने आपदा के तहत सभी बाढ़ पीड़ितों को बांटे चुरा और चीनी। बोले सीओ अमित कुमार बाढ़ पीड़ितों को आगे भी सभी जरूरी समान उपलब्ध करवाया जाएगा।