नाग पंचमी पर गुड़िया के साथ कोरोना को पीट कर भागने का लिया संकल्प

ब्यूरो चीफ आर पी यादव के साथ एम एम तिवारी

कौशाम्बी हिंदू धर्म के परंपरागत त्योहार नाग पंचमी पर गुड़िया को पीटे जाने की पुरानी परंपरा को कोरोनावायरस की महामारी में ग्रामीणों ने गुड़िया के साथ-साथ कोरोनावायरस को पीटने का संकल्प लेकर देश से कोरोनावायरस भगाने का निर्णय लिया है जनपद मुख्यालय मंझनपुर सहित आसपास के क्षेत्रों में नाग पंचमी के पर्व पर गुड़िया पीटे जाने की परंपरा में लोगों ने कोरोनावायरस को पीटा है

आस्था के इस पर्व नागपंचमी के अवसर पर बच्चों ने सड़क किनारे गुड़िया के साथ कोरोना को पीटकर त्यौहार का आनंद उठाया वहीं बड़ों ने जमकर पतंग लड़ाए दिनभर आसमान पतंगों से पटा रहा वहीं महिलाओं ने अपने पूजा घरों में नाग देवता की आकृति बनाकर उनकी पूजा कर पकवान खीर का भोग लगाकर इस त्यौहार को हर्षोल्लास के साथ मनाया है इस पर्व पर शिव मंदिरो में भी बड़ी संख्या में भक्तों ने पहुंचकर पूजा अर्चना किया जिले भर में नागपंचमी का त्यौहार बड़े ही धूमधाम से मनाया गया सुबह से ही बच्चियों ने घरों में कपड़े की प्रतीकात्मक गुड़िया बनाना शुरू कर दिया था। इसके बाद टोली बनाकर बच्चियां निश्चित स्थान तालाब किनारे गली चौराहों पर पहुंची और जैसे ही गुड़ियां रोड पर फेंकी गयी वैसे ही बालको ने गुड़िया के साथ कोरोना वायरस को डंडों से पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान बड़े बूढ़े बच्चे सभी खुश नजर आए।