10 वर्षीय बच्चे की बहादुरी को सलाम,ग्यारह हजार बोल्टेज की लाइन में चिपके बच्चे की बचाई जान

★साथी को बचाने में बुरी तरह झुलसा 10 वर्षीय बालक।

★जाबांज बच्चे की जगह जगह हो रही प्रशंसा।

★ लोगों ने बच्चे की सलामती के लिए मांगी दुआ।

सरसौल। कानपुर में एक 10 वर्षीय बालक ने अपनी बहादुरी का परिचय देते हुए ग्यारह हजार की विद्युत लाइन में चिपके अपने साथी की जान बचाई लेकिन वह खुद बुरी तरह से झुलस गया।
महाराजपुर थाना क्षेत्र के पुरवामीर चौकी में तैनात चौकी प्रभारी नीरज बाबू के दस वर्षीय बच्चे ने वह कर दिखाया जो वाकई में काबिले तारीफ है।
अपनी जान की परवाह न करते हुए दूसरे की जान बचा कर अपनी बहादुरी का परिचय दिया है।
पूरा मामला कानपुर का है।
पड़ोसी के घर में खेल रहे बच्चे को 11000 वोल्टेज के करंट से बचाया लेकिन अफसोस वह खुद करंट की चपेट में आ गया जिससे उसकी जान पर बन आई।


महज दस वर्ष की उम्र में हर्ष प्रताप सिंह ने बच्चे को बचा कर अपनी बहादुरी का परिचय दिया है,
क्षेत्रीय लोगों ने प्रशंशा करते हुए कहा कि
वाकई में उसने दिखा दिया कि वह एक पुलिस वाले का खून है. ऐसे बच्चे की हिम्मत को लोगो ने सलाम किया।
दूसरे की जान बचाने में गंभीर रूप से करंट में झुलसे बच्चे का इलाज रीजेंसी हॉस्पिटल में चल रहा है।
उसके स्वस्थ्य होने के लिए लोगो ने सामूहिक रूप से ईश्वर की प्रार्थना की।