You are currently viewing सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिसवां में खुली डॉक्टरों की पोल

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिसवां में खुली डॉक्टरों की पोल

सीतापुर बिसवां थाना क्षेत्र सदरपुर के अंतर्गत त्रिलोकपुर का रहने वाला महेश पुत्र कल्लू गांव के ही छत्रपाल पुत्र गुरुप्रसाद के यहां मजदूरी करने गया था छत्रपाल का घर बन रहा है महेश के सगे भाई तिवारी लाल के अनुसार 28 अगस्त को काम के दौरान छत्रपाल ने महेश के सर पर लोहे का अधिक वजन ड्रम रख दिया जिसके कारण महेश के शरीर में दर्द होने लगा और वह वहीं पर गिर पड़ा कुछ अज्ञात गांव वालों के बताने पर मैं अपने पिता के साथ महेश को लेकर सामुदायिक केंद्र बिसवां 108 एंबुलेंस से 8:00 बजे के आसपास पहुंचा मेरे भाई को इलाज की तुरंत आवश्यकता थी 4 घंटे तक अस्पताल से कोई भी इलाज नहीं किया गया ना तो भर्ती लिया गया ना तो रेफर किया गया मैं अपने मरीज को लेकर अस्पताल के बाहर पड़ा रहा दोबारा 108 नंबर पर संपर्क कर मरीज को खैराबाद ले गया वहां पर डॉक्टरों ने देखने के बाद लखनऊ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया इलाज के दौरान 1 सितंबर को मेरे भाई की मृत्यु हो गई