सदा संसार में सतपुरुष नर रूप धरके आए है। मगर संसार वाले क्या कभी उन्हें पहचान पाये है

-धनबाद, झारखंड*सदा संसार में सतपुरुष नर रूप धरके आए है। मगर संसार वाले क्या कभी उन्हें पहचान पाये है।।*विश्व विख्यात परम सन्त बाबा जयगुरुदेव जी महाराज के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी पूज्य सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 26 फरवरी 2021 को झारखंड के धनबाद शहर में सत्संग सुनाते हुए प्रेमियों को बताया कि गुरु की पहचान तो तब होती है जब अंतर में गुरु का दर्शन होता है। अब बहुत से लोग इसमें गुरु महाराज के नाम दानी के बैठे हो। लेकिन आप खुद भ्रम और भूल में पड़ जाते हो। आप छोटी चीज में फंस जाते हो। बड़ी चीज को आप छोड़ देते हो और उसी में आपका समय निकल जाता है। कोई जातिवाद में फंस जाता है, कोई भाईवाद, कोई भतीजावाद में फंस जाता है। कोई एरियावाद, कोई भाषावाद में – इन छोटी चीजों के पाने में आप फंस जाते हो। *प्रेमियों ! सुमिरन, ध्यान, भजन नियम से करोगे तो गुरु की पहचान हो जायेगी*ध्यान, भजन, सुमिरन आप छोड़ देते हो तो गुरु की पहचान कैसे हो पाएगी? अगर पहचान हो जाए तो गुरु के रास्ते पर चलने के लिए चलाने के लिए आदमी 24 घंटा तत्पर हो। गुरु के एक वाक्य पर मर मिटने के लिए तैयार हो जाए। आदमी को डर रहता है कि निर्धनता ना आ जाए, गरीबी ना आ जाए, अपमान ना हो जाए बच्चे भूखे ना रह जाए। जब उसको यह मालूम हो जाए कि सबके सिरजनहार, जो मां के स्तन में पैदा होने से पहले दूध भर देता है, परवरिश वह करते हैं, देते वह हैं, खिलाते वह हैं – इस समय गुरु रूप में हैं जिसको ईश्वर कहां गया, परमात्मा कहां गया – इसकी जानकारी जब हो जाती है तो आदमी की सब चिंता-फिकर खत्म हो जाती है। चाह गई चिंता गई, मनवा बेपरवाह।जिसको कछु ना चाहिए, सोई शहंशाह।।*गुरु की पहचान जब आपको अंतर में हो जाएगी फिर आपको चिंता-फिक्र करने की जरूरत नहीं रहेगी*महाराज जी ने कहा जब गुरु की पहचान हो जाती हैं अंतर में, तब वह बादशाह हो जाता है। आप यह समझो वह गुरु पर निर्भर हो जाता है कि यह जैसा कहेंगे अब वैसा हम करेंगे। अब हमारी जिम्मेदारी पूरी इनके हाथ में है, लोक-परलोक बनाने की जिम्मेदारी इनके हाथ में हो गई। *प्रेमियों आपको गुरु भक्त बनने की जरूरत है*प्रेमियों जो आप सत्संगी हो गुरु महाराज जी के, जो नाम दानी हो, आपको गुरु भक्त बनने की जरूरत है। मनमुखता को खत्म करो। मन के कहे करो मत कोई।। जो गुरु कहे करो तुम सोई।।*प्रेमियों ! गुरु के वचन को सदैव याद रखो* गुरु के वचनों को याद करो। गुरु के सत्संग को याद करो। और उन वचनों के आधार पर आप चलो। कुछ दिन तक चल कर कर देख लो। अगर आपको फायदा लाभ होता है तो होता है नहीं तो जबरदस्ती तो है नहीं।।। जय गुरुदेव।।संत बाबा जय उमाकांत जी महाराज आश्रम उज्जैन मध्य प्रदेश भारत