किसान अध्यादेश, संविदा विनियमितिकरण, निजीकरण, बेरोजगारी एवं विशेष सुरक्षा बल के गठन को लेकर समर्थ किसान पार्टी का हल्ला बोल

समर्थ किसान पार्टी ने अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत पार्टी के तमाम किसानों एवं युवाओं के साथ जिला मुख्यालय मंझनपुर में प्रदर्शन किया। पार्टी नेता अजय सोनी की अगुवाई में डायट मैदान मंझनपुर में जुटे पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हल्ला बोल किया और जमकर नारेबाजी की।
इसके बाद कलेक्ट्रेट पहुंच कर महमहिम राज्यपाल महोदय को संबोधित एक ज्ञापन अपर जिलाधिकारी मनोज कुमार को सौंपा।

सौंपे गए ज्ञापन में केंद्र सरकार द्वारा किसानों के विरूद्ध लाए जा रहे तीन किसान अध्यादेश तत्काल वापस लेने, केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा निजीकरण रोकने, प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं को सरकारी नौकरी में पांच साल तक संविदा पर नियुक्त करने के मामले को वापस लेने, प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्रदान करने एवं प्रदेश सरकार द्वारा विशेष सुरक्षा बल के गठन को रद्द करने जैसी मांगे शामिल थीं।
ज्ञापन स्वीकार करते हुए अपर जिलाधिकारी महोदय ने बताया कि जल्द ही ज्ञापन राज्यपाल महोदय को पहुंचाया जाएगा।

इसके पूर्व पार्टी नेता अजय सोनी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि केंद्र एवं राज्य की सरकार किसान, नवजवान विरोधी है और इस सरकार में किसान एवं बेरोजगार नवजवान सर्वाधिक परेशान है। सरकार निजीकरण करके सरकारी नौकरी को खत्म करने का मंसूबा बना रही है और संविदा पर नौकरी के बहाने युवाओं का भविष्य अंधकार में धकेल रही है। इन सभी अध्यादेशों एवं कानूनों के लागू होने पर किसान, बेरोजगार बर्बाद हो जाएंगे।
जिला अध्यक्ष प्रेम चन्द्र केसरवानी ने कहा कि आज किसान दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है और युवा नौकरी के अभाव में आत्महत्या कर रहे हैं। जबकि केंद्र एवं राज्य सरकार किसानों एवं युवाओं के बदौलत ही सत्ता में आई हैं। समय आने पर किसान एवं युवा सरकार से हिसाब चुकता करेंगे।

इस अवसर पर युवा जिला अध्यक्ष वेद प्रकाश यादव, जिला महासचिव राजवंत सिंह, मानसिंह यादव, उपाध्यक्ष रंजीत सिंह, सूर्य प्रताप यादव, पदूम नारायण सोनी, चन्द्र भूषण वर्मा, भैरव प्रसाद, उमाशंकर तिवारी, सारूख अहमद, अली रजा, विशाल साहू, अकील अहमद, जीतू केसरवानी, धीरेन्द्र दुबे आदि मौजूद रहे।